Typing Speed ​​Kaise Badhaye? – This is the best way to increase the typing speed of English!

Today, every work has become computer based. Most of the work is done on computer and laptop and if it comes to doing job in a company, then firstly your computer knowledge is seen there as well as Typing Speed ​​because if Typing will be fast, then the job is completed in a short time. can go. If you also want to increase your Typing Speed, then today’s post Typing Speed ​​Kaise Fast Kare will help you a lot.
For Job computer with knowledge of the Typing Speed is also important that all Companies is seen to Apply for jobs. Typing test is also taken in many companies. If you are a company content writer means the author is your typing speed to be very good so next we are going to tell you Typing Speed Fast Karne Ka Tarika that allows you to increase the speed of your typing.

Typing Speed ​​Kaise Badhaye

Next we will tell you such best Typing Speed ​​Badhane Ke Tarike. With which Improvement will be visible in your Typing Speed ​​in no time.\

 

Chat on social media sites
Facebook and WhatsApp are being used by everyone nowadays. If you use these social sites in your computer, then this will also increase your typing speed. Type the message while looking at the screen . See the keyboard only when it is necessary. This is also a better way of Typing Speed ​​Badhane Ke Liye.

Understand technology
There is also a process of typing on a computer . In which 80% technique, 10% speed and 10% accuracy is used, how to keep hands, learn to focus on the position of the hands. This process is most important to increase typing speed.

Remember the keys of the keyboard
Memorizing Keyboard Keys is also a way to increase typing speed. Have a good understanding of the keyboard which key is where. Add each key to your mind . Remember all the buttons on the keyboard. You can also take help of someone for this. Take the help of your friends and ask them to ask and you tell them the location.

Typing Speed ​​Kaise Improve Kare
We will now tell you about a website that will help increase your typing speed.

Typing Test

This is the best website to increase typing speed. You can also do online typing test on this .

  • Go To Website – You have to go to its website www.typingtest.com.
  • Set Timer – As soon as you reach the site, set the time according to it.
  • Select Option – Now select any one option for typing.
  • Tap On Start Typing Test – Click on “Start Typing Test”.
  • Start Typing – After this, a page will open in front of you, start online typing test here.

Thnks for reading

Call recording Kaise Karen? – Learn how to turn on and off mobile call recording

Call Recording Kaise Karen : Today we will tell you that if you want to get information about Call Record Kaise Karen , Android Phone Me Call Recording Kaise Kare, then you are reading the perfect post. Through this post we will give you complete information on how to turn on call recording .

Call Recorder Kaise Download Kare also you will know through this post. And we will explain it to you in very simple language. Hope you like all our posts. And similarly you continued to like all the posts on our blog.

Nowadays, there are also such features in mobile by which we can record calls while talking on the phone. Meaning what we talked to the person in front of us, we can do mobile call recording . And you can also listen to this recording later. There are many apps with the help of which we can record the call.

You get this facility in Android Phone. In Android Phone, you also get a call recording feature. There can be many reasons to record the call, sometimes we want to save many important things with us. Because of this also we need to record.

So friends, now know that Call Recording Kaise Kare  if you also want to record a call. So read this post Auto Call Record Kaise Karte Hain from beginning to end. Only then you will be able to get better information about how to do call recording .

Call recording Kaise Karen

You further tell Android Phone Me Call Recording Kaise Kare, for this you follow the steps given below:

  • Open Dial Pad

First of all go to the dial pad of your phone. And call someone’s mobile number. Or Receive any Incoming Call.

  • Click Menu Option

After dialing the mobile number, you will see some such (D) 3 Dot in the top of the screen, click on it.

  • Click Start Option

In it you will see the option of Start Recording. Click on it. Now your call record will start. After recording the phone call, this recording will be saved in your Sd Card or Default Manager.

Samsung Mobile Me Call Record Kaise Kare

There are many automatic call recording apps available for Android Phone. With the help of which you can record calls in other Android phones with Samsung as well. So let’s know Automatic Call Record Kaise Kare with the help of these apps:

Call Recorder ACR

You can record any incoming and outgoing calls with the help of these apps. And we will also be able to save the recording. But old Call Record Automatic Delete gets done in this app. If there is any important call recording then you can also mark it. So that it will not be Auto Delete.

Automatic Call Recorder

This app also provides very good features of Call Recording. This is a very good feature for Call Recording. In this, you also get the facility of Cloud Account. In this app, you can do Automatic Call Record. Also, you will be able to save to Google Drive like Automatic Cloud Account.

Call Recorder – Automatic

It provides a very good Pro Feature. In this, you can share Recording to anyone with Share Option with Manual & Auto Call Recording Option. And you will also be able to lock the recording through a PIN. So that nobody other than you can play that recording.

Samsung Mobile Me Video Call Record Kaise Kare

Follow the steps given below to record video call in Samsung Mobile. With which you can record video call in your Samsung mobile.

  1. Go To Home Screen – Firstly go to your phone’s home screen and click on the phone’s option.
  2. Click Menu Icon – Now click on the Icon of the menu.
  3. Click Setting Option – In the option of Menu, you will see the option of Setting. Click on the call in it.
  4. Turn On / Off – And now you can turn Video Calling Slider on / off. And you can use it.
  5. Click Ok Button – then click on Ok.

io Phone Me Call Record Kaise Karte Hain

Now further tell you that for this Jio Phone Call Recording Kaise Kare, we are telling you about an App. With the help of which you will be able to record the call in Jio Phone:

  1. Download App – First of all, download this App Call Recorder for Jio 4g Voice in your mobile.
  2. Install App – After installing, now install the app.
  3. Open App – Once the App is installed, open the App. And use it.

Thanks

What is Startup? Where to get started and Funding?

You must have heard about big companies, but do you know about the startup business?

Startup makes sense from the name itself that it is the beginning of something. And when you see it in the context of Business, then it is called Startup Business. Today the world is engaged in new product innovation, there is competition everywhere, giving some unique to consumers, but this innovation is based on a lot of research.

If you understand in simple language, then to raise any existing problem in the market and bring solutions for it by research so that the life of consumers will be easy.

Some people succeed in it and many people fail in it. So if you want to know the complete information related to Startup, then definitely read it till the end.

What is Startup? (Startup Definition)

A Startup Company means a company which is at the initial stage of its operations. Usually, more than one person holds the foundation of what we call Entrepreneur. Here people come together with their own skills and specialization, and work on a Startup Idea, so that consumers can be given a unique product or service.

Startups develop products or services in which they are seeing a good market potential. Now here take the example of your favorite website Hindi Sahayta which is part of the startup named Hiigher .

Here we found out what a startup is. If you are interested in Startup and want to be aware of every aspect related to it, then tie your chair and go ahead.

How to start a startup (8 Steps)

A lot of dedication is required to start a startup, you have to put all your strength into it. If you have made up your mind to start with hard work, then definitely read the steps given below.

Step 1) Problem

People do not buy a product, they buy a solution for a problem. First of all, you have to identify the problem and you can also get an idea about this problem from the personal experience.

Neeraj Jeevani, the founder of Hindi Aid, observes one day that his mother is doing some searching on the Internet. Mother searched the net by writing in Hinglish, but nothing was found in the search results. Not a single answer came from Google’s huge data repository.
Neeraj found this thing very surprising and he got involved in its research. After doing research, it was found that millions of people in India find answers to their questions on the Internet, whether they are applying for a document or knowing the details of a plan.
Here Neeraj identified this problem and this is how the Hindi help platform was created.

Similarly, you can also identify a problem with your personal experience and as soon as you get the problem, definitely ask yourself this question:

  • Is this a problem that everyone has to face?
  • Will bringing the solution of this problem make life easier for many people?
  • When and how often do such problems occur to the people?
  • Which class of people have this problem?

Step 2) Ideation और Solution

Here you work on the solution of the problem and this solution becomes your business idea

As soon as you get the solution, share them with the people and know their reaction.

  • Is he happy with this Idea / Solution?
  • Will a large section benefit from this idea?

In this way, with a little market research, you can validate your Idea.

Step 3) Search for Dream 

If you are determined to make your Idea a Startup, then you need to find your Dream Team. First of all, you must drill your skills, in addition to work on the people who will be required in your startup.

A good Startup is made up of the following Specialized people:

  • Chief Executive Officer (CEO) – It leads the entire Startup and motivates everyone to work towards the company’s Vision – Mission.
  • Chief Growth Officer (CGO) – They work towards growth in the company through the right business plan.
  • Chief Marketing Officer (CMO) – He is responsible for marketing related work in the company.
  • Chief Technology Officer (CTO) – He has the responsibility related to technology.
  • Chief Design Officer (CDO) – All responsibility related to design.
  • Chief Financial Officer (CFO) – All responsibility related to finance in Startup.

A good team is extremely important. Find people you enjoy working with, especially on the early stage.

Step 4) Customer Persona

To reach your Idea customers, you have to first define Customer Persona. It is a form of your rightful consumer category created by market research. In this, you ensure aspects of consumer information such as age group, educational background, language, etc.

To understand the correct information and needs of your consumer, you must interview them by survey.

Step 5) Prototype MAKING

To understand the Potential of your Idea, you have to do a Prototype. Here you create your product system. There are 2 stages of the prototype:

  1. Make paper first
  2. Then design digital design

For example: If your product is a digital solution, first make a process for it on paper like

  • Consumer came to your website.
  • What information should he see there first.
  • What options should be available on the website. 
  • At what stage will the consumer’s need be met?
  • What is it that will give the consumer a chance to purchase / subscribe.

You have to be a little creative here, by creating your prototype with color markers and color labels, first of all you show it to the people near you and pay attention to their reaction. This will help you to create a better user interface for the consumer.

Now you can prepare your Digital Prototype. If you do not have knowledge of Coding then do not worry at all, you can make your Digital Prototype on the below given tools.

  • Adobe XD
  • Marvel App
  • Material.io
  • Moqups.com

Once the prototype is ready, test it again with the logo and change the product according to the feedback. Now your Idea is not just an Idea, you have gone a step ahead, and start working towards your Marketing Plan.

Step 6) Marketing Plan

Now that your prototype is ready, it is time to go in front of the world. Make sure your Short and Long Term Goal is why Marketing Plan has a big role in a real startup.

What message do you want to give? What is unique in your product? Answers to all these will be needed in the Marketing Plan. Here you also have to decide which Channels you will use. You can take decision according to your Customer Persona, Online Channels or Offline Channels or both.

Landing page is an important part of the marketing plan where you redirect your consumers through the campaign. Keep in mind, the Landing Page should have all the information according to the needs of the consumer, then this consumer becomes your customer.

Step 7) Business और Revenue Model

No company can run without Bina Revenue. Revenue will happen only then you will be able to move forward in that business / startup.

Revenue is the most difficult and important part of any startup. For the existence of Startup itself, it is necessary to have a Business and Revenue Model. We can see it this way.

  • The Business Model describes what value the company is providing to its customers, and the Revenue Model itself is involved. A company can actually operate multiple Business Models at the same time.
  • The Revenue Model ensures how the company will create its Revenue.

At this stage, you focus on the plans and sales processes associated with the earnings of your Startup. Here you will find out the cost i.e. per-unit cost of logistics and operations along with your product.

Step 8) Startup Funding

This is the last step to start your startup and the first step towards increasing your business. If you do not want to fund your Startup yourself, then you can bring Startup Funding in other ways.

Where do you bring Funding from?

  • From your friends or family : This is a simple way to raise funds, and this will also let you know how much people close to you are trusting your Startup Idea.
  • Funding from Venture Capitalist : This is a group of Professional Investors who specializes in Startup Funding. If your Startup Idea and Startup Plan is very accurate, then Venture Capitalist will rain the funds on your Startup.
  • Crowd Funding : Here, through the Crowd Funding Campaign, you get connected to people. Those who like your Idea will contribute to your funding.
  • Through Startup Loan: Startup Loan is also available for you. If you want to get funding through Startup Loan, then based on your credit history, you are given a Startup Loan, and for this you must have a correct and detailed business plan of your Startup Idea. There are many options related to Startup Loan In India, you can also take advantage of it.

Read further, what is the benefits of Startup Business and how you can make more money in less time.

Benefits of startup

The style of working of Traditional Business and Startup Company is very different. Startups are trying to fly high from the beginning, so they give many facilities and flexibility to all the people associated with their company. If you have never been part of a startup, then definitely read further.

  • Growth Culture – Employees are not motivated only by salary. They are often motivated by learning, growing and challenges. Startup companies keep their employees where they can succeed, learn new skills and do things they may not have the opportunity to do elsewhere.
  • Flexible Culture – Startups believe in giving all kinds of flexibility to their employees so that the employer can work comfortably wherever and however he wants to work. This increases productivity in work and it directly proves beneficial to the company.
  • Stock Options – Startups do not just give salary to their employees but also make them partners in the company through stock. With this, the employees understand the company and work with full dedication and it proves to be a major contribution to the success of the company.
  • Fast Paced Environment – In startups you will usually find Fast Paced Environment. No appointment or permission is required to meet the CEO here, whenever you want, meet them. This makes the Decision Making Process faster and Employees can work on new projects without interruption.
  • Valuation Game – If your Startup is being successful in the market in the right way, then you can have a line of Investors and in this way the Valuation of your Startup increases and you can make very good money in a short time.

We hope that this article of ours will inspire you, how did you like our article, and tell us in the comment what you understand from the startup.

 

 

RAM Kya Hai? – Know the complete information of RAM in Hindi.

If you do not know that Ram kya hai then RAM or Random Access Memory is the temporary memory of a computer. Data inputted from any other input device of the keyboard is stored in RAM before processing and is retrieved from there as required by the CPU . Data or programs are stored temporarily in RAM, the data stored in RAM gets erased when the computer is shut down or power is interrupted, hence RAM is also called volatile or temporary memory.

If you want to know what RAM is (what is RAM in Hindi), then you do not need to go anywhere because we will provide you all the information about RAM in Hindi. Stay with us to know what is Ram in Hindi, RAM Meaning In Hindi, Ram ki ful form and read this post till the end.

In this, the data and instructions of the work currently being done by the CPU are stored. The more RAM is in your computer, the more programs will be able to run in your computer easily. If RAM is low then your computer or device will run very slowly and there is also a possibility of a hang. So let’s know what is the full form of RAM Ka Kya Arth Hai and RAM?

RAM Ki Jankari Hindi Me

If we talk about Mobile RAM, then you will find that RAM in Mobile Phone works differently than a computer. Whenever you open an application in a Smartphone, the app is first loaded in RAM and then executed. In this way, you will see that the app you use recently stays in RAM.

RAM Full Form

RAM ki Full Form in Computer is – ” Random Access Memory “, it is also called Direct Access Memory.

Ram ka full form in hindi – ” Random Access Memory “.

Similarly, ROM ka Full Form in Computer – “Read Only Memory” so here you also know Rom Full Form

Now you know what is RAM Kya Hai in Hindi, Ram full form in hindi and Ram full form in computer and RAM in CPU, so let us tell you how much RAM is there and how RAM is memory.

Characteristics of Ram (Features of Ram)

  • Ram is a special part of CPU.
  • A computer cannot do its work without RAM.
  • RAM is the primary memory of a computer.
  • RAM is expensive and separate from storage.
  • With the help of Ram, we can randomly access the available data.
  • Ram exchanges data very fast.

Friends also know about the functions of RAM. RAM functions exactly the same as any memory. It performs the task of storing data of what is currently being done by the CPU.

Types of Ram

  • SRAM – Static RAM
  • DRAM – Dynamic Rem

1. SRAME

The full form of SRAM or its full name is Static Random Access Memory. In this, “Static” means that the data in this RAM remains constant, so that there is no need to refresh the computer again and again.

The reason behind where this RAM also goes to Volatile Memory is that until Power On, the data remains in it and all the data is automatically deleted as soon as Power Off, it is also used like Cache Memory.

2. DRAM

The full form or full name of DRAM is Dynamic Random Access Memory. In this, the meaning of “Dynamic” is movable, which means always changing. This is why this RAM needs to be refreshed repeatedly so that data can be stored in this memory.

The best example of this type of memory is DDR3 RAM.

DRAM is often used as the CPU’s main memory. The main reason for this is the data received from it, which is easily received at regular intervals and new data is also stored automatically. This makes the CPU work faster without interruption.

Conclusion

RAM is a memory through which you can run your phone and computer easily. It also gets rid of problems like device hangs.

 

 

Who invented the pen?

Who first invented pen ?

Moving fast, the important things of old times are also being erased with them. Just as email and social media have reduced the importance of postal facilities, in the same way that education is becoming digital and tablet and keyboard devices are being used in place of copy-pen, pen less importance. Is becoming

Colleges in developed countries are taught almost only with smart devices, but in India, most students still use stationery like copy pens etc. in schools or colleges. Whether it is about schools, college or jobs, pens are always with us.

In today’s time, we mostly use gel pens or ball pens, but you will also remember the pen in which ink had to be filled. This pen used to run a little light and often used to spread ink. In modern times, these pens are used only for some official works, but earlier pens were in circulation here.

Pens are with us at every stage in our lives, whether we are learning to speak in schools or participating in a big exam like UPSC. Have you ever wondered what our life would be like without a pen? Probably a little hard to imagine.

Who invented the telescope
Who invented the clock
We use pens so much in our daily work that it is normal for us, but years ago, when ink and peacock feathers or sharp things were used for writing, it was an important invention.

This made the life of the people easy. Do you know who invented the pen ? And when was the pen invented ? If not, read this article completely. In this article, we are going to give you all the information related to the invention of pen.

A pen is a type of device that is used to remove ink (ink) onto paper. With the help of this, we can write any similar surface like paper, cloth etc.

We all remember the answer to this question. We use pens daily. Whether we are making some notes in school, during the lecture in college, drawing on the last page of our notebook or making a list of the items that we bring from the market at home.

A pen is a type of device that is used to remove ink (ink) onto paper. On the front of the pen is a pointed nostril, in which there is a very small hole. This hole serves to remove the bluish filled paper inside the pen.

If there is a gel pen, it takes a little time to dry after removing the stuffed paper inside the paper and if there is a ball pen, then the shyness instantly becomes dry. If it is the same fountain pen, it takes a little more time to dry after removing it in the paper.

We currently use stylus for ballpoint pens, rollerball pens, fountain pens, felt tip pens, gel pens and digital products such as tablets, smartphones and touch screen laptops. These are common pens used today, but before that, deep pens, ink brush pens, quails and spine pens were used for writing.

This type of historical pennon is dipped in the dark and put on paper or clothes. In some cultures there was also the practice of writing on big leaves such as sugarcane leaves. The quill was a type of feather coat that was immersed in the dark and later that paper was put on paper.

The same reed pen was a sharp pen made by cutting ridges or bamboos etc. The ink bush was a large pen which was thick and hollow from the back. In this thick and hollow part, the incantation was filled. It was also a traditional pen which is found in many places even today. After this, a deep pen was started in which the blackhead was filled and later that paper was put on paper.

Who invented the pen?
pen ke avishkarak
Like any other great invention, the invention of pen cannot be attributed to any one person. The modern pen began with the invention of the fountain pen, which is attributed to the French inventor Petrache Poenaru ( Petrache Poenaru).

But the most important ball point pen in the field is considered to be the invention. The ball point pen invention is credited to 2 individuals, the first of which was John J. Loud (John Jacob Loud) and the second is László Bíró . But the invention of the ballpoint pen (ball pen) is mainly attributed to John Jacob Loud.

The idea of ​​making a ball pen came to John when he was working on leather items. The way the tailor has to mark the cloth repeatedly while sewing, in the same way John had to mark it repeatedly to cut the leather, but it was a bit difficult with the fountain pen and pencil present at that time.

It was from here on June that the idea of ​​making such a pen came to help them in this work. After this idea, he made a pen whose knock was shaped like a small bolt of metal. Sockets were also used to keep some of the bolts in place.

When was the pen invented?
If an exact answer to this question is sought then it will be a bit difficult to answer because people used to do writing work even before the invention of modern pens i.e. fountain pens and ball point pens.

But if we talk about the invention of modern pens, then John Jacob Loud invented ball point pens in 1988. The French inventor Petrache Poenaru has received patents for the invention of the fountain pen. He invented the fountain pen on 25 May 1857. The modern pens that we have today have become possible only due to these inventions.

History of the invention of pen
The modern ballpoint pens that we have today were not invented much earlier. But pencil and fountain pens have been invented before the invention of this pen. If we look at the history of the pen, then Shayahi cannot be left behind.

Shyahi has been used for years. According to the present information, the first writing ink was invented by the Egyptians and the Chinese. According to belief, this ink was invented by mixing carbon with gum. Before use, this ink was immersed in water and later it was applied on the skin of paper, clothes or animals with any sharp thing.

That is, since ancient times, people had the use of the dark and the way to use it. Gradually the writing work continued to grow and development was done in this field. People started using Quill to accurately roll the paper onto paper or cloth, and then came a reed pen made of bamboo.

After this, the technology progressed a bit and ink bush pens were used which used to have royal angel behind it and had a nautch in front of it. It was invented nad deep pen which was even better and accurate. Since then modern pens such as fountain pens, gel pens and ballpoint pens were invented.

Who invented the fountain pen and when?
Fountain pens were invented by Petrache Poenaru in 1827.

Who invented the ball pen and when?
The invention of the ball pen John J Loud. It was done in the year 1888.

what did you learn today
I hope I gave you complete information about who invented the pen and I hope you have got information about when the pen was invented.

If you have any doubts about this article or you want that there should be some improvement in it, then for this you can write low comments. With these ideas, you will get a chance to learn something and improve something.

If you liked this article of mine, who invented the fountain pen or got something to learn from it, then please share this post on social networks such as Facebook , Twitter, etc. to show your happiness and eagerness .

 

Types of storage devices

Many times you must have seen this question in a competitive examination, what are the types or types of computer storage devices? If you too want complete information about them, then you will have to read this article Computer Storage Device Types in Hindi in full.

Then without delay let us know about the types of Computer Storage Device.

Types of computer storage devices

Although there are many different types of Computer Storage Device , but here we will divide all those types in some way so that we can easily understand and remember them.

So we will divide these storage devices into five parts. You will get information about which below. For your information, let me tell you that these storage devices are used to store computer data.

1. Magnetic Storage Device

The first storage device that comes is magnetic storage devices. These devices are the most used in today’s time. That’s because they are very cheap and easy to access can be made.

Apart from this, a large amount of data can also be stored in it.

When these magnetic storage devices are combined with a computer, a magnetic field is generated with the help of two magnetic polarities. At the same time, this device can easily read binary language and can also store information.

Examples of magnetic storage devices

Let us now know about some examples of magnetic storage devices.

Floppy Disk – These are also called floppy diskette. It is a removable storage device i.e. it can be removed and installed easily. At the same time, its shape is like a square which has some magnetic elements.

When it is installed in the computer’s disk reader, it rotates and data is stored in it. It is no longer used, but CDs, DVDs and USB drives are used in its place .

Hard Drive – Hard Drive is a primary storage device that is connected directly to the motherboard ‘s disk controller. This is a very important storage space as it is used to install any new program or application in the device.

Then whether it is software programs, images, videos, or any other reason. A large amount of data can be stored in the hard drive.

Zip Disk – Zip Disk is a removable storage device that was launched by Iomega. In its initial phase, it was able to store only up to 100 MB of data. At the same time, but later it is able to store up to 750 MB of data.

Magnetic Strip – These magnetic strips are connected with devices that have digital data in them. The best example of this is your ATM debit card , the strip that is behind it stores digital data.

2. Optical Storage Devices

Optical storage devices are called devices that use lasers and lights to detect and store data. They are much cheaper than USB drives, while they are also able to store more data than them.

Examples of optical storage devices

Let us now know about some examples of optical storage devices.

CD-ROM – A full-fledged forum of CD-ROM is Compact Disc. It is a read-only memory as well as an external device that can read and store data in the form of audio or software data. A CD-ROM can store data up to 650MB or 700MB.

Blu-ray Disc – Blu-ray Disc, or simply known as Blu-ray. It is a digital optical disc storage format. It was specifically designed to supersede (be better than) the DVD format. At the same time, it is able to store many hours of high-definition video.

DVD – Full forum of DVD is Digital Versatile Disc. This is a different type of optical storage device.

At the same time, you can also use it as readable, recordable, and rewritable. Recordings in these devices can be used by adding them to other systems outside.

CD-R – CD is a readable Compact Disc that uses photosensitive organic dye to record and store data. You can consider it a low-cost replacement to store software and applications.

DVD-R, DVD + R, DVD-RW and DVD + RW discs – DVD-R and DVD + R are recordable discs that are written only once, while DVD-RW and DVD + RW are also called rewritable discs. It means that they can be written more than once.

The main difference between + and – is in its formatting and compatibility.

3. Flash memory storage device

Flash memory storage devices have replaced both magnetic and optical storage devices in recent times. These are very easy to use, are portable and together they can be made available anywhere else.

They are much cheaper and more convenient to store data.

Examples of flash memory storage devices

Let us now know about some examples of Flash Memory storage devices which are used more by people.

USB Drive – USB drive is also called pen drive. These storage devices are very small in size, but they have the advantage of storing a large amount of data.

They have an integrated circuit that allows it to store and replace data.

Memory Card – These memory cards are often used in small electronic and computerized devices such as mobile phones or digital cameras. These memory cards are used to store images, videos and audios data. They are much more compatible, but their sizes are also much smaller.

Memory Stick – In Memory Stick was originally launched by Sony company. The memory stick can store more data and data transfer using this storage device is easy and quick.

Over time, different versions of these Memory Stick also began to be produced.

SD Card – Secure Digital Card is a full forum of SD Card . These cards are used in different electronic devices to store data. At the same time, these SD cards are available in mini and micro sizes as well.

Generally speaking, computers have a separate slot for inserting an SD card. On the other hand, if such a slot is not present in any device, then there are also some USB readers in which these SD cards can be inserted and used later by connecting it with the computer.

SSD – The full forum of SSD is Solid State Drive. It is a flash memory device that uses integrated circuit assemblies to save data.

4. Online and Cloud Storage Devices

In today’s era, the desire of Cloud Storage Devices is very high because today everyone needs everything sitting at home. In such a situation, online and cloud storage devices seem fully capable to do this. Because anyone can access them from anywhere.

Examples of cloud storage devices

Let us now know about the examples of some cloud storage devices.

Cloud storage – In this the data is managed remotely and together it is made available through a network. You can use its basic features for free, but if your consumption limit increases, then you may have to pay more for it.

Network media – Audio, Video, Images or Text are all used in a computer network. In this, a group of people make some content online and also share with each other.

5. Paper Storage Device
These paper storage devices were used in the past to save information.

Examples of paper storage devices

Let us now know about some examples of paper storage devices.

OMR – Full forum of OMR is Optical Mark Recognition. This is a process in which the marked data made by humans is captured. For example surveys and tests. At the same time, it is used to read the questionnaire with many options that are shaded.

Punch Card – This is a part of a powerful paper that is used to store digital information which are coming from perforated holes. The presence or absence of holes in predetermined positions defines the data.

Importance of storage devices?

The importance of a storage device is that data can be stored in it, that data can be kept safe and can also be used when needed.

What is the Definition of Storage?
Storage is a process in which digital data is stored securely within a data storage device, while computing technology is used to do so. Or simply, storage is a mechanism that enables a computer to temporarily or permanently retain data.

What is a secondary storage device?
A secondary storage device is a device that refers to a non-volatile storage device that can be either internal or external to the computer. This can be any storage device except primary storage that stores data permanently. For example, external hard drives, USB flash drives, and tape drives are all called secondary storage devices.

What does storage mean?
Storage or computer storage is a technique in which computer equipment and recording media are used to maintain digital data. It is also a core function of the computer.

What is a primary memory device?
A primary memory device or storage device is a medium that holds memory for a short time, even at a time when the computer is running. Even though primary memory devices have lower access time and faster performance, they are more expensive than secondary storage devices. For example, RAM (random access memory) and cache are all called primary memory devices or primary storage devices.

what did you learn today
I hope you liked this article and you must have also understood the type of storage device . We have learned about the different types of Computer Storage Device and examples of them.

If you have any questions related to this article, then you can comment below and I will be happy to help you.

 

What is a mouse and how many types are there?

Most of us are using computers, but do you know what the mouse is and how many types are there. If you are using a computer , then you must have used the mouse, but do you know what the mouse is called in Hindi and how does this mouse work?

Despite all the other devices such as monitor, keyboard , speaker , the mouse has its own status, it controls everything on the screen in a way. So why not buy different types of topics before buying it.

We know that we are surrounded by technology from all four sides. All the work that we are using in everyday work is related to technology in one way or the other. This technology not only makes our work easy but also quickly, which saves us a lot of time.

Do you know what is the most important thing to operate a computer? If you have thought about Mouse then you have guessed right. Because all the activities happening in the computer screen are controlled by the mouse itself.

At the same time it is also very important to know what are the types of mouse ? If seen, there are many types of Mouse and they are used according to our requirement.

So today we will get information about the type of mouse in this post. Then let’s start delaying and know what this mouse is and what it does in Hindi.

What is a mouse

The mouse is an input device . This is a pointing device that is used to interact with the PC. Mouse is mainly used to select different items on the computer screen, learn about them and open and close them.

Using the mouse, the user instructs the computer to do something. Through this, a user can access the computer anywhere on the screen.

There are different models of mouse which have different features and connectivity , but almost all models have two mouse buttons and a scroll wheel .

The interface of the mouse is different, that is, the medium used to connect with the computer or any other system. Then let’s get further information about the Mouse.

What is the full form of the mouse?

The mouse has a full form, Manually Operated Utility For Selecting Equipment .

The full name of the mouse will be something like this in Hindi, ” manually operated utility for device selection “.

Mouse definition

The mouse is a small pointing device that a computer user uses by placing it on a desk surface.

With the help of this , point, select, click, drag, drop and scroll can be done on the display screen, while apart from this, it can be selected from that position to perform a two action.

By what other name is the mouse called
The mouse is also called “Pointer”.

Who was the father of computer mouse?
The mouse is originally called the XY Position Indicator which is used in the Display System. Sun 1963 in Douglas Engelbart was the invention of the Mouse by.

Which used to work in Xerox PARC at that time. It became so famous at that time that today you can see this pointing device in all computers.

About the mouse
Here below, you will give people information about the functions of the mouse. This will make it easier for the user to use the mouse.

1. Move the mouse cursor – This is the primary function which is to move the mouse cursor in the screen.

2. Using Open or execute a program – Mouse, user can open and execute any icon , folder, or any other program by clicking.

3. Select – Mouse can be used to select text, to highlight.

4. Drag-and-drop – Users can easily drag-and-drop a document.

5. Can hover over objects using Hover – Mouse. Hover means that when you bring the cursor over an object , then whatever information will be available in relation to it will show.

6. Using Scroll – Mouse, you can scroll down to see the larger document in its entirety.

Types of Mouse Interface

Over time, many different interfaces of the mouse also developed as technology advanced. Here I am going to inform you about some similar interfaces:

Serial Mouse
This is the oldest type of mouse in this list which is not working anymore, but you can see it in some machines in government offices.

It has a serial connector (a DE-9F D-subminiature ) and needs a free serial port to connect to the PC.

It is typically a corded-type mouse and takes power from the serial port to operate itself.

This serial mouse is also referred to as cold-pluggable , which means that one should connect with the computer only when the computer is in the switched off state.

PS/2 Mouse
This PS / 2 mouse is the upper version of the serial mouse. People are attracted to them more because of their arrival. They can still be purchased as many motherboard manufacturers are still providing PS / 2 port.

These are PS / 2 connector (Mini-DIN) circular and have 6 pins, due to their design they are only correctly aligned with the port and inserted. PS / 2 mice are also cold-pluggable .

USB Mouse
If we talk about now, then nowadays we use a mouse with USB interface which needs a free USB port. They are either corded or cordless / wireless. These are hotpluggable , in Serial and PS / 2 counterpart .

This means that you can also use them in the running condition of the computer, here neither there is any danger to this mouse or to the computer.

Wireless mouse
Cordless or wireless mice transmit data via infrared radiation or radio (that is, Bluetooth).

Here a serial or USB port is used to connect the receiver with the computer, or a built in part such as Bluetooth.

Modern non-Bluetooth wireless mice nowadays use USB receivers. While in some they can be safely stored within the mouse , there are also ” nano ” receivers, which are designed in such a way that they are so small that they are always connected to your laptop or system. Occur.

These are the very latest variety of icons that do not need cable to connect.

While some wireless mouses are connected via USB receiver, others through B luetooth connection . This type of mouse is given power from batteries which are AA type.

एक BASIC PC MOUSE का Design
If you use PC then you must have used mouse. You will find this Mouse in the right or outer direction of your keyboard.

It needs a little space to operate properly. Here, below, you will give information about the basic parts of a mouse:

Left (main) button: This left button comes under the index finger of your right hand, which is the most main button. This button is used the most.
Wheel button: Also called center or wheel, you can use this button like pressing the left and right buttons. This is mainly done to lower or roll up the screen.
Right button: We use this right button for special operations, besides right-clicking it pops up shortcut or context menu.
Mouse body: Mouse is the size of a soap. You give the weight of your palm over this mouse body and use the mouse buttons using your fingers.
Special buttons: Apart from this, there are many other special buttons in the mouse, which are used for Internet navigation and other specific functions.
What is a mouse touchpad called?
The touchpad of the mouse is called the trackpad, glide pad, glide point etc.

What is touchpad?
Touchpad is a type of input device in laptops and some keyboards. This allows the user to move the cursor with the help of his fingers. They can also be used in place of external mouse.

Types of Mouse

There are many types of mouse available in the market today, all have some different technology which differentiates each other in their function.

Corded Mouse

A corded mouse connects directly to the computer via a cable (serial, PS / 2 or USB). It takes power for its operation from the same port to which it is connected, which means that there is no need of external batteries in it.

Corded mice are more accurate because they do not have much issues such as signal interference or performance loss due to low-battery states.

Cordless/Wireless Mouse

A cordless or wireless mouse is called a mouse that has no cable and uses wireless technology to transfer data and connect to the computer.

This is very good for those places where you have problems with cord or cable, such as while traveling.

Batteries are required to operate this mouse. Due to the presence of batteries, it is also a bit heavy.

Mechanical Mouse

A mechanical mouse is also called a ball mouse which consists of a ball and many rollers to track the movement.

This type of mouse is typically of corded variety and is not as popular as optical mouse.

Its performance is very high but it needs special cleaning from time to time.

Optical Mouse

An optical mouse uses optical electronics to track the mouse’s position and movement. They are also rated as standard mechanical mice as they are more reliable than others and require less maintenance.

But their performance depends on the type of surface on which they are operated.

How the mouse works

This thing must have come in the mind of all of us that how these mouse work. So let’s remove this problem from you too.

How Ball computer mouse works
As we roll our ball mouse on top of our desk, the ball below also starts to roll with its weight and the two plastic rollers that are attached to it are pushed forward with thin wheels.

One of these two wheels detects movements in the up-and-down direction of the wheel (such as the y-axis in a graph / chart paper); The second wheel would detect side-to-side movements (such as the x-axis of a graph / chart paper) movements.

Now the question arises that how do these wheels measure your hand movements ? As you move the mouse, the ball moves the rollers, rotating one or both wheels.

If you move the mouse straight up, then only the y-axis wheel will turn; Similarly, if you move it to the right, only the x-axis wheel will turn. Just like the angle in which you move the mouse, similarly the ball will move both wheels simultaneously.

A small brain item has also been used with it. Both the wheels are made of plastic spokes and as it turns, they speak repeatedly when it breaks a light beam.

The more the wheel turns, the more the beam will also be broken. Therefore, how many times that beam is broken, it has to be counted precisely to measure how much the wheel has turned and how much you have made the mouse move.

It microchip inside the counting and measuring mouse, which sends all the details to the computer via cable. The software which is in your computer moves the cursor according to this data according to the need in the screen.

Ball Mouse के Disadvantages

This mouse also has many problems. As such it does not work on all surfaces. Therefore, it needs special mouse mat.

Even with this, even if you have a mat, the rubber ball and its rollers gradually become dirty due to which the x- and y-axis wheels repeatedly move around.

Therefore, they should always be kept clean. Another option is that you use optical mouse.

How does optical mouse work

An optical mouse works completely differently. There is an LED in the back of the mouse which shines on top of the desk.

This light bounces back directly above the backup off desk where there is a photocell , which is also mounted at the bottom of the mouse, which is located at a very short distance away from the LED . .

This photocell has a lens in front of it which magnifies this reflected light, so that the mouse accurately marks your hand movements.

As you move the mouse above the desk, similarly the patter of the reflected light also changes and the chip which is inside the mouse shows how your hands are moving.

Some optical mice also have two LEDs. One who shines on the desk and knows the movement. The second one is located in the back of the mouse and it shows whether the mouse is working or not. The rest of these mouse also work in the same way.

Optical Mouse के Disadvantages

By the way, this optical mouse is much better than the earlier ball mouse, but it also has some flaws such that it is connected to the computer through a wire.

To operate with this, it needs something in its base so that it can work well with light reflection. And you cannot work it from far away because it is more than a wire.

This only increases the usefulness of the wireless mouse .

How the wireless mouse works

There is not much difference in the operation of this wireless mouse here compared to the optical mouse. They also detect movements in the same way as optical mouse.

The only difference here is in the medium of sending data to the computer. Here the transfer of data is done through wireless connection in place of USB cable .

Here the power required to operate the mouse comes from the external battery. All the operations of the rest of the mouse are similar to those of optical mouse.

Wireless Mouse के Disadvantages

Its main disadvantage is that it needs external batteries to operate.

At the same time, if the battery runs out suddenly, then the user has a lot of trouble for the mouse. With this, it is also very heavy due to the battery. Apart from this, it is also the most expensive.

Mouse future

As advancement in technology is taking place, the mouse is also included in this line. Where earlier we used ball mouse, wireless mouse is still used.

Gradually, the use of the mouse may also stop, because with the increase of AI ( Artificial Intelligence ) , now the demand for voice commands has increased.

People need more facilities, they do not want to use their hands to do any work. In such a situation, the day is not far when the mouse will be left just according to an ancient device.

But it is time for this to happen. Let’s see what the future is going to bring new things for us.

What did you teach today?

I sincerely hope that I have told you what a mouse is and what are the types of it? Gave full information about and I hope you guys have understood about the full name of the mouse.

I request all of you readers that you too should share this information in your neighborhood, relatives and friends, so that we will have awareness among us and everyone will benefit a lot from it.

I need your support so that I can convey more new information to you.

It has always been my endeavor that I always help my readers or readers from all sides, if you people have any doubt of any kind, then you can ask me irresponsibly.

I will definitely try to solve those Doubts. How did you like this article, mouse full form and type of mouse, tell us by writing a comment so that we too have a chance to learn something from your ideas and improve something.

 

To show your happiness and excitement about my post, please share this post on social networks such as Facebook , Twitter etc.

एसईओ मूल बातें: खोज इंजन अनुकूलन के लिए शुरुआती शुरुआत गाइड

शुरुआती लोगों के लिए एसईओ के लिए इस गाइड में, आप सीखेंगे:

  1. SEO क्या है और यह महत्वपूर्ण क्यों है?
  2. खोजशब्द अनुसंधान और खोजशब्द लक्ष्यीकरण सर्वोत्तम अभ्यास
  3. ऑन-पेज ऑप्टिमाइज़ेशन बेस्ट प्रैक्टिस
  4. सूचना वास्तुकला सर्वोत्तम अभ्यास
  5. कंटेंट मार्केटिंग और लिंक बिल्डिंग का निष्पादन कैसे करें
  6. सामान्य तकनीकी एसईओ मुद्दे और सर्वोत्तम अभ्यास
  7. कैसे ट्रैक और उपाय एसईओ परिणाम
  8. अतिरिक्त एसईओ विचार (जैसे मोबाइल, अंतर्राष्ट्रीय और स्थानीय एसईओ सर्वोत्तम व्यवहार)

जब तक आप इस एसईओ बेसिक्स गाइड के अंत तक पहुँचते हैं, तब तक आपको एक मजबूत समझ होगी कि खोज इंजन अनुकूलन क्या है, यह मूल्यवान और महत्वपूर्ण क्यों है, और कभी बदलते एसईओ वातावरण में शानदार परिणाम कैसे प्राप्त करें।

1. SEO क्या है और यह महत्वपूर्ण क्यों है?

आपने SEO के बारे में सुना है, और यदि आप पहले से ही नहीं हैं, तो आप इस शब्द की एक त्वरित विकिपीडिया परिभाषा प्राप्त कर सकते हैं , लेकिन यह समझना कि SEO “एक खोज इंजन में किसी वेबसाइट या वेब पेज की दृश्यता को प्रभावित करने की प्रक्रिया है” अवैतनिक परिणाम “वास्तव में आपके व्यवसाय और आपकी वेबसाइट के लिए महत्वपूर्ण सवालों के जवाब देने में आपकी मदद नहीं करते हैं, जैसे:

  • आप, आपकी साइट या आपकी कंपनी की साइट, खोज इंजन के लिए “अनुकूलन” कैसे करते हैं?
  • आपको कैसे पता चलेगा कि SEO पर कितना समय देना है?
  • आप “अच्छे” एसईओ सलाह को “खराब” या हानिकारक एसईओ सलाह से कैसे अलग कर सकते हैं?

आपके लिए एक व्यवसाय स्वामी या कर्मचारी के रूप में दिलचस्प होने की संभावना है कि आप अपने व्यवसाय के लिए अधिक प्रासंगिक ट्रैफ़िक, लीड, बिक्री और अंततः राजस्व और लाभ ड्राइव करने में सहायता करने के लिए वास्तव में एसईओ का लाभ कैसे उठा सकते हैं। इस गाइड में हम इसी पर ध्यान केंद्रित करेंगे।

आपको एसईओ के बारे में क्यों ध्यान रखना चाहिए?

बहुत सारे और बहुत से लोग चीजों को खोजते हैं। वह ट्रैफ़िक एक व्यवसाय के लिए न केवल बेहद शक्तिशाली हो सकता है, क्योंकि इसमें बहुत अधिक ट्रैफ़िक है, बल्कि इसलिए कि बहुत विशिष्ट, उच्च-इरादे वाला ट्रैफ़िक है ।

यदि आप नीले विजेट बेचते हैं, तो क्या आप बिलबोर्ड खरीदेंगे, ताकि आपके क्षेत्र की कार वाला कोई भी व्यक्ति आपके विज्ञापन को देखता हो (चाहे उन्हें कभी भी नीले विजेट में कोई दिलचस्पी हो या नहीं), या हर बार दुनिया के किसी भी प्रकार को दिखाएं “खरीदें ब्लू विजेट “एक खोज इंजन में? संभवतः उत्तरार्द्ध, क्योंकि उन लोगों का व्यावसायिक इरादा है , जिसका अर्थ है कि वे खड़े हैं और कह रहे हैं कि वे आपके द्वारा ऑफ़र की जाने वाली चीज़ खरीदना चाहते हैं ।

लोग आपके व्यवसाय से सीधे संबंधित किसी भी तरीके की खोज कर रहे हैं। इसके अलावा, आपकी संभावनाएं उन सभी प्रकार की चीजों को भी खोज रही हैं जो केवल आपके व्यवसाय से संबंधित हैं। ये उन लोगों के साथ जुड़ने और उनके सवालों के जवाब देने, उनकी समस्याओं को हल करने और उनके लिए एक विश्वसनीय संसाधन बनने में मदद करने के लिए और भी अधिक अवसरों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

क्या आपको किसी विश्वसनीय संसाधन से अपने विजेट प्राप्त करने की संभावना है, जिसने किसी समस्या के साथ मदद के लिए आपके द्वारा Google पर लाए गए पिछले चार बार में से प्रत्येक में महान जानकारी की पेशकश की, या किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में जो आपने कभी नहीं सुना है?

वास्तव में खोज इंजन से ड्राइविंग यातायात के लिए क्या काम करता है?

पहले यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि दुनिया में अधिकांश खोज इंजन ट्रैफ़िक के लिए Google ज़िम्मेदार है (हालांकि वास्तविक संख्याओं में हमेशा कुछ प्रवाह होता है)। यह जगह-जगह पर अलग-अलग हो सकता है, लेकिन यह संभावना है कि Google उन खोज परिणामों में प्रमुख खिलाड़ी है जिन्हें आपका व्यवसाय या वेबसाइट दिखाना चाहेगी, और इस मार्गदर्शिका में उल्लिखित सर्वोत्तम अभ्यास आपकी साइट और उसकी सामग्री को स्थिति में लाने में मदद करेंगे अन्य खोज इंजन में रैंक, साथ ही।

भले ही आप किस खोज इंजन का उपयोग करते हों, खोज परिणाम लगातार बदल रहे हैं। Google ने विशेष रूप से बहुत सारी चीजों को अपडेट किया है कि वे हाल ही में विभिन्न जानवरों के नामों के माध्यम से वेबसाइटों को कैसे रैंक करते हैं , और आपके पृष्ठों को खोज परिणामों में रैंक करने के लिए सबसे आसान और सस्ता तरीका हाल के वर्षों में बेहद जोखिम भरा हो गया है।

तो क्या काम करता है? Google यह कैसे निर्धारित करता है कि कौन से पेज खोजते हैं कि लोग क्या खोजते हैं? आप अपनी साइट पर इस बहुमूल्य ट्रैफ़िक को कैसे प्राप्त करेंगे?

Google का एल्गोरिथ्म बेहद जटिल है, और मैं इस खंड के अंत में Google को कैसे रैंक करता है, इस बारे में गहराई से जानने के लिए कुछ लिंक साझा करूंगा, लेकिन एक उच्च स्तर पर:

  • Google उन पृष्ठों की तलाश में है जिनमें खोजकर्ता की क्वेरी के बारे में उच्च-गुणवत्ता, प्रासंगिक जानकारी हो।
  • वे आपकी वेबसाइट की सामग्री “क्रॉलिंग” (या पढ़ना) और प्रासंगिकता (एल्गोरिथम) के द्वारा प्रासंगिकता निर्धारित करते हैं कि क्या वह सामग्री प्रासंगिक है जो खोजकर्ता खोज रहा है, ज्यादातर इसमें मौजूद कीवर्ड पर आधारित है।
  • वे कई माध्यमों से “गुणवत्ता” का निर्धारण करते हैं, लेकिन उनमें से प्रमुख अभी भी अन्य वेबसाइटों की संख्या और गुणवत्ता है जो आपके पेज और आपकी साइट को पूरी तरह से लिंक करती हैं। इसे बस सीधे शब्दों में कहें: यदि आपकी नीली विजेट साइट से लिंक करने वाली एकमात्र साइटें ऐसे ब्लॉग हैं जिन्हें वेब पर किसी और ने नहीं जोड़ा है, और मेरी नीली विजेट साइट को उन विश्वसनीय स्थानों से लिंक मिलता है जो अक्सर CNN.com की तरह जुड़े होते हैं। मेरी साइट आपकी तुलना में अधिक विश्वसनीय (और उच्च गुणवत्ता वाली) मानी जाएगी।

Google की एल्गोरिथ्म द्वारा अतिरिक्त तत्वों को तौला जा रहा है, यह निर्धारित करने के लिए कि आपकी साइट कहां रैंक करेगी, जैसे:

  • लोग आपकी साइट के साथ कैसे जुड़ते हैं (क्या उन्हें अपनी ज़रूरत की जानकारी मिल जाती है और आपकी साइट पर बनी रहती है, या खोज पृष्ठ पर वापस बाउंस करें और किसी अन्य लिंक पर क्लिक करें? या क्या वे खोज परिणामों में आपकी सूची को पूरी तरह से अनदेखा करते हैं और कभी भी क्लिक-थ्रू नहीं होते हैं? )
  • आपकी साइट की लोडिंग गति और “मोबाइल मित्रता”
  • आपके पास कितनी विशिष्ट सामग्री है (बनाम बहुत “पतली” कम-मूल्य वाली सामग्री या डुप्लिकेट सामग्री )

Google के एल्गोरिदम खोजों के जवाब में सैकड़ों रैंकिंग कारक हैं, और वे अपनी प्रक्रिया को लगातार अपडेट और परिष्कृत कर रहे हैं।

अच्छी खबर यह है, आपको खोज परिणामों में मूल्यवान शब्दों को रैंक करने के लिए एक खोज इंजन विद्वान होने की आवश्यकता नहीं है। हम खोज के लिए वेबसाइटों के अनुकूलन के लिए सिद्ध, दोहराए जाने योग्य सर्वोत्तम प्रथाओं के माध्यम से चलेंगे , जो आपको दुनिया के सबसे मूल्यवान कंपनियों में से एक की मूल योग्यता को रिवर्स-इंजीनियर किए बिना खोज के माध्यम से लक्षित यातायात को चलाने में मदद कर सकते हैं।

यदि आप खोज इंजन के काम करने के बारे में अधिक जानने में रुचि रखते हैं, तो महान संसाधनों का एक टन उपलब्ध है, जिनमें शामिल हैं:

अब, एसईओ मूल बातें पर वापस! आइए वास्तविक एसईओ रणनीति और रणनीतियों में प्रवेश करें जो आपको खोज इंजन से अधिक ट्रैफ़िक प्राप्त करने में मदद करेंगे।

2. कीवर्ड अनुसंधान और कीवर्ड लक्ष्यीकरण सर्वोत्तम अभ्यास

खोज इंजन अनुकूलन में पहला कदम वास्तव में यह निर्धारित करना है कि आप वास्तव में किसके लिए अनुकूलन कर रहे हैं। इसका मतलब यह है कि लोग उन शब्दों की पहचान कर रहे हैं, जिन्हें “कीवर्ड” के रूप में भी जाना जाता है। आप चाहते हैं कि आपकी वेबसाइट Google जैसे खोज इंजन में रैंक करे।

बहुत आसान लगता है, है ना? मैं चाहता हूं कि मेरी विजेट कंपनी तब दिखाए जब लोग “विगेट्स” ढूंढते हैं, और हो सकता है कि जब वे “विजेट्स खरीदें” जैसी चीजों में टाइप करें। तीन कदम पर!

दुर्भाग्य से यह इतना आसान नहीं है। आपके द्वारा अपनी साइट पर लक्षित किए जाने वाले कीवर्ड का निर्धारण करते समय कुछ महत्वपूर्ण कारक ध्यान में रखते हैं:

  • खोज मात्रा – विचार करने के लिए पहला कारक कितने लोग (यदि कोई हो) वास्तव में किसी दिए गए कीवर्ड की खोज कर रहे हैं। जितने अधिक लोग कीवर्ड की खोज कर रहे हैं, उतने बड़े दर्शक आप तक पहुँचने के लिए खड़े हैं। इसके विपरीत, यदि कोई कीवर्ड नहीं खोज रहा है, तो खोज के माध्यम से आपकी सामग्री खोजने के लिए कोई दर्शक उपलब्ध नहीं है।
  • प्रासंगिकता – यदि कोई शब्द अक्सर उस महान के लिए खोजा जाता है: लेकिन क्या होगा यदि यह आपकी संभावनाओं के लिए पूरी तरह से प्रासंगिक नहीं है? प्रासंगिकता पहली बार में सीधे-सीधे प्रतीत होती है: यदि आप एंटरप्राइज़ ईमेल मार्केटिंग ऑटोमेशन सॉफ़्टवेयर बेच रहे हैं, तो आप उन खोजों के लिए नहीं दिखाना चाहते हैं, जिनका आपके पालतू जानवरों की आपूर्ति से कोई लेना-देना नहीं है, जैसे “पालतू आपूर्ति”। लेकिन “ईमेल मार्केटिंग सॉफ्टवेयर” जैसे शब्दों का क्या? यह सहज रूप से ऐसा प्रतीत हो सकता है कि आप जो भी करते हैं उसका एक महान विवरण है, लेकिन यदि आप फॉर्च्यून 100 कंपनियों को बेच रहे हैं, तो इस बहुत ही प्रतिस्पर्धी शब्द के लिए अधिकांश ट्रैफ़िक खोजकर्ता होंगे जिन्हें आपके सॉफ़्टवेयर को खरीदने में कोई दिलचस्पी नहीं है (और आप जिन लोगों तक पहुंचना चाहते हैं, वे एक साधारण Google खोज के आधार पर आपके महंगे, जटिल समाधान को कभी नहीं खरीद सकते हैं)। इसके विपरीत, आप सोच सकते हैं कि “सर्वोत्तम उद्यम पीपीसी विपणन समाधान” जैसे एक स्पर्शरेखा खोजशब्द आपके व्यवसाय से पूरी तरह अप्रासंगिक है क्योंकि आप पीपीसी विपणन सॉफ्टवेयर नहीं बेचते हैं।
  • प्रतियोगिता – किसी भी व्यावसायिक अवसर के साथ, एसईओ में आप संभावित लागत और सफलता की संभावना पर विचार करना चाहते हैं। SEO के लिए, इसका अर्थ विशिष्ट शर्तों के लिए सापेक्ष प्रतिस्पर्धा (और रैंक करने की संभावना) को समझना है।

पहले आपको यह समझने की जरूरत है कि आपके संभावित ग्राहक कौन हैं और वे क्या खोज रहे हैं। यदि आप पहले से ही नहीं समझते हैं कि आपकी संभावनाएं कौन हैं, तो इसके बारे में सोचना शुरू करने के लिए एक अच्छी जगह है , सामान्य रूप से आपके व्यवसाय के लिए लेकिन एसईओ के लिए भी।

वहां से आप समझना चाहते हैं:

  • वे किस प्रकार की चीजों में रुचि रखते हैं?
  • उन्हें क्या समस्या है?
  • वे किस प्रकार की भाषा का उपयोग करते हैं, जो वे करते हैं, जो उपकरण वे उपयोग करते हैं, आदि का वर्णन करने के लिए?
  • वे और कौन हैं जो इससे चीजें खरीद रहे हैं (इसका मतलब आपके प्रतिस्पर्धियों से है, लेकिन इसका मतलब यह भी हो सकता है कि ईमेल विपणन कंपनी के लिए स्पर्शरेखा, संबंधित उपकरण – अन्य उद्यम विपणन उपकरण सोचें)?

एक बार जब आप इन प्रश्नों का उत्तर दे देते हैं, तो आपके पास अतिरिक्त कीवर्ड विचारों को प्राप्त करने में मदद करने के लिए संभावित कीवर्ड और डोमेन की प्रारंभिक “बीज सूची” होगी और आसपास कुछ खोज मात्रा और प्रतियोगिता मैट्रिक्स डालनी होगी।

उन मुख्य तरीकों की सूची लें, जो आपकी संभावनाओं और ग्राहकों का वर्णन करते हैं कि आप क्या करते हैं, और उन्हें Google टूल के कीवर्ड टूल या Uber सुझाव या वर्डस्ट्रीम के कीवर्ड टूल जैसे टूल में इनपुट करना शुरू करें :

आप नीचे कीवर्ड टूल की अधिक व्यापक सूची पा सकते हैं, लेकिन मुख्य विचार यह है कि इस प्रारंभिक चरण में, आप विभिन्न कीवर्ड टूल के साथ कई खोजों को चलाना चाहेंगे। आप SEM रश जैसे प्रतिस्पर्धी कीवर्ड टूल का उपयोग करके यह देख सकते हैं कि आपके प्रतियोगी किन शब्दों के लिए रैंकिंग कर रहे हैं। ये उपकरण हजारों विभिन्न खोज परिणामों को देखते हैं, और आपको प्रत्येक खोज शब्द दिखाते हैं कि उन्होंने Google में हाल ही में आपकी प्रतिस्पर्धी रैंकिंग देखी है। मार्केटिंग ऑटोमेशन प्रदाता Marketo के लिए SEM रश क्या दर्शाता है:

फिर से: यह सिर्फ कुछ तुम प्रतियोगियों के लिए देखने के लिए नहीं है। आप संबंधित उपकरणों को देख सकते हैं जो सामग्री विचारों के लिए एक ही बाजार में बेच रहे हैं , और यहां तक ​​कि प्रमुख आला प्रकाशकों को भी देखें जो आपके विषय के बारे में बात करते हैं (और आपकी संभावनाएं पढ़ रहे हैं) और देखें कि वे कौन से कीवर्ड उन साइटों के लिए ट्रैफ़िक चला रहे हैं। ।

इसके अतिरिक्त, यदि आपके पास कोई मौजूदा साइट है, तो आपको पहले से ही खोज इंजन से कुछ ट्रैफ़िक मिलने की संभावना है। यदि ऐसा है, तो आप अपने स्वयं के कुछ कीवर्ड डेटा का उपयोग यह समझने में मदद करने के लिए कर सकते हैं कि कौन सी शर्तें ट्रैफ़िक चला रही हैं (और जिसके लिए आप थोड़ा बेहतर रैंक कर सकते हैं)।

दुर्भाग्य से, Google ने उन लोगों के बारे में बहुत सारी जानकारी देना बंद कर दिया है जो लोग एनालिटिक्स प्रदाताओं को खोज रहे हैं , लेकिन आप अपनी शर्तों के बारे में जानने के लिए अपनी साइट पर SEM रश (या इसी तरह के उपकरण, जैसे कि SpyFu ) का उपयोग कर सकते हैं। उनकी अनुमानित खोज मात्रा के लिए रैंकिंग। Google अपने निशुल्क वेबमास्टर टूल इंटरफ़ेस में इस डेटा को थोड़ा और उपलब्ध करता है (यदि आपने कोई खाता नहीं बनाया है, तो यह खोज क्वेरी डेटा का पता लगाने और विभिन्न तकनीकी एसईओ समस्याओं के निदान के लिए दोनों के लिए एक बहुत ही मूल्यवान एसईओ उपकरण है – और अधिक वेबमास्टर उपकरण यहाँ स्थापित )।

एक बार वेबमास्टर टूल सेट हो जाने के बाद, आप लॉग इन होने पर इस लिंक पर नेविगेट कर सकते हैं और उन खोज क्वेरी को देख सकते हैं जो आपकी साइट पर ट्रैफ़िक ला रही हैं:

ये अतिरिक्त सामग्री संवर्धन और आंतरिक लिंकिंग पर ध्यान केंद्रित करने के लिए अच्छे शब्द हो सकते हैं (बाद में उन विषयों में से प्रत्येक पर), और आपको लक्षित करने के बारे में अधिक महान विचार प्राप्त करने में मदद करने के लिए महान “बीज कीवर्ड” भी हो सकते हैं।

एक बार जब आप यह समझने के लिए समय ले लेते हैं कि आपकी संभावनाएं कैसे बात करती हैं और वे क्या खोजते हैं, तो उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वियों और संबंधित साइटों पर ट्रैफ़िक चलाने वाले कीवर्ड को देखा है, और अपनी खुद की साइट पर ट्रैफ़िक चलाने वाले शब्दों को देखा है, आपको काम करने की आवश्यकता है यह समझने के लिए कि आप किन शर्तों पर विचार कर सकते हैं और वास्तव में सबसे अच्छे अवसर कहां हैं ।

किसी कीवर्ड की सापेक्ष प्रतियोगिता का निर्धारण करना काफी जटिल कार्य हो सकता है। बहुत उच्च स्तर पर, आपको समझने की आवश्यकता है:

  • कैसे विश्वसनीय और आधिकारिक (दूसरे शब्दों में: पूरी साइट को कितने लिंक मिलते हैं, और उन लिंकिंग साइट्स से कितनी उच्च गुणवत्ता, विश्वसनीय और प्रासंगिक हैं?) अन्य संपूर्ण साइटें जो एक ही शब्द के लिए रैंक करने के लिए प्रतिस्पर्धा कर रही हैं।
  • वे स्वयं कीवर्ड के साथ कितने अच्छे हैं (क्या वे उस खोजकर्ता के प्रश्न का शानदार उत्तर देते हैं)
  • उस खोज परिणाम में प्रत्येक व्यक्ति का पेज कितना लोकप्रिय और आधिकारिक है (दूसरे शब्दों में: पेज के कितने लिंक खुद हैं, और वे लिंकिंग साइटें कितनी उच्च गुणवत्ता, विश्वसनीय और प्रासंगिक हैं?)

आप यह निर्धारित करने की प्रक्रिया में गहराई से गोता लगा सकते हैं कि कैसे बैकलिंको के इन-गाइड गाइड में प्रतिस्पर्धी शब्द हैं या WordStream के संस्थापक लैरी किम के प्रतिस्पर्धी इंडेक्स फॉर्मूला (टिप नंबर 3) का उपयोग करके ।

विभिन्न प्रकार के उपकरण भी हैं (उनमें से अधिकांश भुगतान किए गए हैं) जो कीवर्ड कठिनाई स्कोर प्रदान करते हैं:

    • मोज़ेक की कठिनाई और SERP विश्लेषण उपकरण
    • SEMRush कीवर्ड कठिनाई उपकरण
  • सर्पीक
  • कानिरक
  • कोलिब्री .io
  • Seoprofiler
  • अल्टिमेटेनफाइंडर
  • एडवांस्ड वेबरैकिंग का की-वर्ड कठिन उपकरण

और जब यह प्रकृति में अधिक उन्नत होता है, तो रैंक क्षमता को समझने के बारे में निक यूबैंक का पोस्ट न केवल समझ पर एक महान गहराई प्रदान करता है, बल्कि कीवर्ड प्रतियोगिता और एक शब्द के लिए रैंकिंग की अपनी साइट की वास्तविक संभावना का निर्धारण करने के लिए एक क्रियात्मक सूत्र बनाता है ।

यदि आप कीवर्ड अनुसंधान और कीवर्ड लक्ष्यीकरण के विषय में और भी अधिक गहराई से देखना चाहते हैं, तो विषय पर कई बेहतरीन संसाधन हैं:

  • लैरी किम और विल क्रिचलो ने सिद्ध खोजशब्द रणनीति पर एक महान वेबिनार की पेशकश की
  • इस विषय पर भी मोजेज का शानदार मार्गदर्शन है
  • कीवर्ड रिसर्च के लिए बैकलिंको का निश्चित गाइड भी पूरी तरह से और बेहद उपयोगी है
  • यदि आप एक उच्च-गुणवत्ता वाले, अंत-टू-एंड कोर्स की तलाश कर रहे हैं, जो खोजशब्द अनुसंधान निक यूबैंक्स का संचालन कर रहा है (भुगतान किया गया) मास्टर खोजशब्द अनुसंधान 7 दिन का ईमेल पाठ्यक्रम उत्कृष्ट है

3. ऑन-पेज ऑप्टिमाइज़ेशन

एक बार जब आपके पास आपकी कीवर्ड सूची होती है, तो अगला चरण वास्तव में आपके लक्षित खोजशब्दों को आपकी साइट की सामग्री में लागू करता है। आपकी साइट का प्रत्येक पृष्ठ एक मूल शब्द और संबंधित शब्दों की “टोकरी” को लक्षित करना चाहिए। पूरी तरह से अनुकूलित पृष्ठ के अपने अवलोकन में रैंड फिशकिन एक अच्छा दृश्य प्रदान करता है जो एक अच्छी तरह से (या पूरी तरह से) अनुकूलित पृष्ठ जैसा दिखता है:

आइए कुछ महत्वपूर्ण, मूल ऑन-पेज तत्वों को देखें जिन्हें आप समझना चाहते हैं कि आप अपनी वेबसाइट पर खोज इंजन ट्रैफ़िक कैसे चलाएं:

शीर्षक टैग

जबकि Google किसी पृष्ठ के वास्तविक अर्थ को बेहतर ढंग से समझने के लिए काम कर रहा है और शब्द (और संबंधित शब्द) सहित कीवर्ड के आक्रामक और जोड़ तोड़ का उपयोग कर रहा है, जिसे आप अपने पृष्ठों में रैंक करना चाहते हैं, अभी भी मूल्यवान है। और आप अपने कीवर्ड डाल सकते हैं सबसे प्रभावी जगह अपने पेज का शीर्षक टैग है।

शीर्षक टैग है नहीं अपने पृष्ठ के प्राथमिक शीर्षक। पृष्ठ पर आपके द्वारा देखी जाने वाली शीर्षक आमतौर पर एच 1 (या संभवतः एच 2) एचटीएमएल तत्व है। शीर्षक टैग वह है जो आप अपने ब्राउज़र के शीर्ष पर देख सकते हैं, और मेटा पेज में आपके पेज के सोर्स कोड से पॉप्युलेट होता है :

Google द्वारा दिखाए जाने वाले शीर्षक टैग की लंबाई अलग-अलग होगी (यह पिक्सेल पर आधारित है, वर्ण गणना नहीं) लेकिन सामान्य रूप से 55-60 अक्षर यहां अंगूठे का एक अच्छा नियम है । यदि संभव हो तो आप अपने मुख्य कीवर्ड में काम करना चाहते हैं, और यदि आप इसे स्वाभाविक और सम्मोहक तरीके से कर सकते हैं, तो उस शब्द के साथ कुछ संबंधित संशोधक भी जोड़ें। हालांकि ध्यान रखें: शीर्षक टैग अक्सर वही होगा जो एक खोजकर्ता आपके पृष्ठ के खोज परिणामों में देखता है। यह ऑर्गेनिक खोज परिणामों में “शीर्षक” है, इसलिए आप यह भी जानना चाहते हैं कि आपका शीर्षक टैग कैसे क्लिक करने योग्य है ।

मेटा विवरण

जबकि शीर्षक टैग प्रभावी रूप से आपकी खोज सूची का शीर्षक है, मेटा विवरण (आपकी साइट के कोड में अपडेट किया जा सकने वाला एक और मेटा HTML तत्व, लेकिन आपके वास्तविक पृष्ठ पर नहीं देखा जाता है) प्रभावी रूप से आपकी साइट की अतिरिक्त विज्ञापन प्रतिलिपि है। Google खोज परिणामों में जो कुछ प्रदर्शित करता है, उसके साथ कुछ स्वतंत्रताएं लेता है, इसलिए आपका मेटा विवरण हमेशा नहीं दिखा सकता है, लेकिन यदि आपके पास आपके पृष्ठ का एक आकर्षक विवरण है जो लोगों को क्लिक करने की संभावना तलाश कर रहा है, तो आप ट्रैफ़िक बढ़ा सकते हैं। (याद रखें: खोज परिणामों में दिखना केवल पहला कदम है! आपको अपनी साइट पर आने के लिए खोजकर्ताओं को प्राप्त करने की आवश्यकता है और फिर वास्तव में आपको जो कार्रवाई करनी है वह करें।)

यहां खोज परिणामों में वास्तविक विश्व मेटा विवरण का एक उदाहरण दिया गया है:

शरीर की सामग्री

आपके पृष्ठ की वास्तविक सामग्री स्वयं, ज़ाहिर है, बहुत महत्वपूर्ण है। विभिन्न प्रकार के पृष्ठों में अलग-अलग “कार्य” होंगे – आपकी आधारशिला सामग्री संपत्ति जिसे आप बहुत से लोगों को लिंक करना चाहते हैं जो आपकी समर्थन सामग्री से बहुत अलग होना चाहिए, जिसे आप अपने उपयोगकर्ताओं को खोजने और जल्दी से जवाब पाने के लिए सुनिश्चित करना चाहते हैं। उस ने कहा, Google तेजी से कुछ प्रकार की सामग्री का पक्ष ले रहा है, और जब आप अपनी साइट के किसी भी पृष्ठ का निर्माण करते हैं, तो कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • मोटी और अनोखी सामग्री – शब्द गणना के मामले में कोई जादू की संख्या नहीं है, और यदि आपके पास अपनी साइट पर सामग्री के कुछ पृष्ठ हैं जो एक मुट्ठी भर सौ शब्दों के साथ आप Google के अच्छे ग्रेस से बाहर नहीं होंगे, लेकिन सामान्य हालिया पांडा अद्यतन विशेष रूप से लंबे समय तक, अद्वितीय सामग्री में। यदि आपके पास बहुत कम (सामग्री के 50-200 शब्द) पृष्ठों या बड़ी संख्या में डुप्लिकेट सामग्री की एक बड़ी संख्या (हजारों लगता है) है, जहां कुछ भी नहीं बदलता है, लेकिन पृष्ठ का शीर्षक टैग और पाठ की एक पंक्ति कहता है, जो आपको परेशानी में डाल सकता है। अपनी साइट की संपूर्णता को देखें: क्या आपके पृष्ठों का एक बड़ा प्रतिशत पतला, डुप्लिकेट और कम मूल्य का है? यदि ऐसा है, तो उन पृष्ठों को “गाढ़ा” करने के तरीके की पहचान करने की कोशिश करें, या अपने विश्लेषिकी की जांच करके देखें कि उन्हें कितना ट्रैफ़िक मिल रहा है, और बस उन्हें बाहर करें (खोज परिणामों से एक नोइंडेक्स मेटा टैग का उपयोग करके ) यह Google को दिखाई देने से रखने के लिए कि आप उन्हें रैंक करने के प्रयास में बहुत से कम मूल्य के पृष्ठों के साथ उनके सूचकांक को भरने की कोशिश कर रहे हैं।
  • व्यस्तता – Google तेजी से सगाई और उपयोगकर्ता अनुभव मेट्रिक्स को और अधिक भारी कर रहा है। आप यह सुनिश्चित करके प्रभावित कर सकते हैं कि आपकी सामग्री उन सवालों के जवाब देती है जो खोजकर्ता पूछ रहे हैं ताकि वे आपके पृष्ठ पर बने रहें और आपकी सामग्री के साथ संलग्न हों। सुनिश्चित करें कि आपके पृष्ठ जल्दी से लोड होते हैं और उनमें डिज़ाइन तत्व (जैसे सामग्री के ऊपर अत्यधिक आक्रामक विज्ञापन) नहीं होते हैं, जो खोजकर्ताओं को बंद करने और उन्हें दूर भेजने की संभावना होगी।
  • “Sharability” – आपकी साइट पर सामग्री का हर एक टुकड़ा सैकड़ों बार जुड़ा और साझा नहीं किया जाएगा। लेकिन इसी तरह से आप बड़ी मात्रा में उन पेजों को रोल न करने से सावधान रहना चाहते हैं जिनमें पतली सामग्री है, तो आप इस पर विचार करना चाहते हैं कि आपके द्वारा रोल आउट करने से पहले आप अपनी साइट पर जो नए पेज बना रहे हैं उन्हें साझा करने और लिंक करने की संभावना होगी। । बड़ी मात्रा में ऐसे पृष्ठ होने की संभावना है, जिन्हें साझा या लिंक करने की संभावना नहीं है , जो खोज परिणामों में अच्छी तरह से रैंक करने के लिए उन पृष्ठों को स्थिति में नहीं लाते हैं, और खोज इंजन के लिए संपूर्ण रूप में आपकी साइट की एक अच्छी तस्वीर बनाने में मदद नहीं करते हैं, या तो ।

Alt विशेषताएँ

आप अपनी छवियों को कैसे चिह्नित करते हैं यह न केवल उस तरह से प्रभावित कर सकता है जैसे सर्च इंजन आपके पेज को देखते हैं, बल्कि यह भी पता चलता है कि छवि से कितना खोज ट्रैफ़िक आपकी साइट उत्पन्न करता है। एक सर्वोच्च विशेषता एक HTML तत्व है जो आपको एक छवि के लिए वैकल्पिक जानकारी प्रदान करने की अनुमति देता है यदि कोई उपयोगकर्ता इसे नहीं देख सकता है। आपकी छवियां समय के साथ टूट सकती हैं (फ़ाइलें नष्ट हो जाती हैं, उपयोगकर्ताओं को आपकी साइट से कनेक्ट करने में कठिनाई होती है, आदि) इसलिए छवि का एक उपयोगी विवरण होना समग्र प्रयोज्य परिप्रेक्ष्य से सहायक हो सकता है। यह आपको अपनी सामग्री के बाहर एक और अवसर देता है – खोज इंजन को यह समझने में मदद करने के लिए कि आपका पृष्ठ क्या है।

आप ” कीवर्ड सामग्री ” नहीं चाहते हैं और अपने मूल कीवर्ड और इसके हर संभव रूपांतर को अपनी पूरी विशेषता में रटना चाहते हैं । वास्तव में, यदि यह विवरण में स्वाभाविक रूप से फिट नहीं है, तो अपने लक्ष्य कीवर्ड को यहां बिल्कुल भी शामिल न करें। बस सुनिश्चित करें कि पूरी विशेषता को छोड़ना नहीं है, और छवि का संपूर्ण, सटीक विवरण देने की कोशिश करें (कल्पना करें कि आप इसे किसी ऐसे व्यक्ति का वर्णन कर रहे हैं जो इसे नहीं देख सकता है – यह वही है जो इसके लिए है!)।

अपने विषय के बारे में स्वाभाविक रूप से लिखकर, आप “ओवर-ऑप्टिमाइज़ेशन” फ़िल्टर से बच रहे हैं (दूसरे शब्दों में: ऐसा नहीं लगता है कि आप Google को अपने लक्ष्य कीवर्ड के लिए अपने पेज की रैंकिंग में फंसाने की कोशिश कर रहे हैं) और आप अपने आप को दे अपने मुख्य विषय की मूल्यवान “लंबी पूंछ” विविधताओं के लिए रैंक करने का एक बेहतर मौका ।

URL संरचना

आपकी साइट की URL संरचना ट्रैकिंग के नज़रिए से महत्वपूर्ण हो सकती है (आप खंडों, तार्किक URL संरचना का उपयोग करके रिपोर्ट में डेटा को आसानी से खंडित कर सकते हैं), और एक shareability के दृष्टिकोण (छोटे, वर्णनात्मक URL कॉपी और पेस्ट करना आसान है और गलती से प्राप्त कर सकते हैं) कम कट जाना)। दोबारा: जितना संभव हो उतने कीवर्ड में रटना काम न करें; एक छोटा, वर्णनात्मक URL बनाएँ।

इसके अलावा: यदि आपके पास नहीं है, तो अपने URL न बदलें। यहां तक ​​कि अगर आपके URL “सुंदर” नहीं हैं, तो यदि आपको ऐसा नहीं लगता है कि वे उपयोगकर्ताओं और आपके व्यवसाय को सामान्य रूप से नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रहे हैं, तो उन्हें “बेहतर एसईओ” के लिए अधिक कीवर्ड केंद्रित करने के लिए न बदलें। यदि आपको अपनी URL संरचना को बदलना है, तो उचित (301 स्थायी) प्रकार के रीडायरेक्ट का उपयोग करना सुनिश्चित करें। जब वे अपनी वेबसाइट को फिर से डिज़ाइन करते हैं तो यह एक सामान्य गलती है ।

अतिरिक्त URL संसाधन:

  • क्या URL स्ट्रक्चर भी मैटर करता है? एक डेटा संचालित उत्तर
  • URL के लिए SEO बेस्ट प्रैक्टिस
  • बिना SEO Value खोए Domains को कैसे स्थानांतरित करें

स्कीमा और मार्कअप

अंत में, जब आपके पास सभी मानक ऑन-पेज तत्वों का ध्यान रखा जाता है, तो आप अपने पृष्ठ को समझने के लिए Google (और अन्य खोज इंजन, जो स्कीमा को भी पहचानते हैं) की मदद से एक कदम आगे और बेहतर जाने पर विचार कर सकते हैं।

स्कीमा मार्कअप आपके पृष्ठ को खोज परिणामों में उच्च नहीं दिखाता (यह एक रैंकिंग कारक नहीं है, वर्तमान में)। यह आपके परिणामों को खोज परिणामों में कुछ अतिरिक्त “अचल संपत्ति” देता है, जिस तरह से विज्ञापन एक्सटेंशन आपके Google विज्ञापनों (पहले ऐडवर्ड्स ऐडवर्ड्स) के रूप में जाना जाता है ।

कुछ खोज परिणामों में, यदि कोई और स्कीमा का उपयोग नहीं कर रहा है, तो आप इस तथ्य के आधार पर क्लिक-थ्रू दर में एक अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते हैं कि आपकी साइट रेटिंग जैसी चीजों को दिखा रही है जबकि अन्य नहीं। अन्य खोज परिणामों में, जहां हर कोई स्कीमा का उपयोग कर रहा है, समीक्षा होने पर “टेबल दांव” हो सकता है और आप अपने Google सीटीआर को छोड़ कर उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं:

विभिन्न प्रकार के मार्कअप हैं, जिन्हें आप अपनी साइट पर शामिल कर सकते हैं – अधिकांश संभवत: आपके व्यवसाय पर लागू नहीं होंगे, लेकिन संभावना है कि मार्कअप का कम से कम एक रूप आपकी साइट के कम से कम कुछ पृष्ठों पर लागू होगा। 

आप इनमें से किसी भी संसाधन के साथ स्कीमा और मार्कअप के बारे में अधिक जान सकते हैं:

  • WordStream SEO के लिए स्कीमा का अपना गाइड है
  • स्कीमा। ओ प्रलेखन
  • देखें कि क्या Google वर्तमान में आपके संरचित डेटा परीक्षण उपकरण के साथ आपकी साइट पर मार्क-अप को पहचानता है
  • बिलीविविज़ रिच रिच स्निपेट गाइड

ऑफ-पेज एसईओ ( अन्य साइटों पर कारक जो आपकी अपनी साइट की रैंकिंग को प्रभावित कर सकते हैं) पर हमारे वॉकथ्रू को भी देखें ।

4. सूचना वास्तुकला और आंतरिक लिंकिंग

सूचना वास्तुकला से तात्पर्य है कि आप अपनी वेबसाइट पर पृष्ठों को कैसे व्यवस्थित करते हैं। जिस तरह से आप अपनी वेबसाइट को व्यवस्थित करते हैं और अपने पृष्ठों के बीच इंटरलिंक करते हैं, वह प्रभावित कर सकता है कि आपकी साइट की विभिन्न सामग्री खोजों के जवाब में कैसे रैंक करती है।

इसका कारण यह है कि खोज इंजन मोटे तौर पर लिंक को “विश्वास के वोट” और दोनों को समझने में मदद करने का साधन है कि एक पृष्ठ क्या है, और यह कितना महत्वपूर्ण है (और यह कैसे विश्वसनीय होना चाहिए)।

खोज इंजन उस वास्तविक पाठ को भी देखते हैं जिसका उपयोग आप पृष्ठों से लिंक करने के लिए करते हैं, जिसे लंगर पाठ कहा जाता है – अपनी साइट पर एक पृष्ठ से लिंक करने के लिए वर्णनात्मक पाठ का उपयोग करने से Google को यह समझने में मदद मिलती है कि वह पृष्ठ क्या है (लेकिन बाद के पेंगुइन दुनिया में , विशेष रूप से सुनिश्चित करें अपने खोजशब्दों को पाठ में जोड़ने में अत्यधिक आक्रामक न हों)।

उसी तरह से जब सीएनएन से एक लिंक एक संकेत है कि आपकी साइट महत्वपूर्ण हो सकती है, यदि आप अपनी साइट पर विभिन्न क्षेत्रों से आक्रामक तरीके से एक विशिष्ट पृष्ठ से लिंक कर रहे हैं, तो यह खोज इंजन के लिए एक संकेत है कि वह विशिष्ट पृष्ठ आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है साइट। अतिरिक्त रूप से: आपकी साइट के पृष्ठ जिनमें सबसे बाहरी वोट हैं (अन्य, विश्वसनीय साइटों से लिंक), खोज परिणामों में आपकी साइट रैंक पर अन्य पृष्ठों की मदद करने के लिए सबसे अधिक शक्ति है।

यह “पेजरैंक” नामक अवधारणा से संबंधित है। पेजरैंक का उपयोग अब उसी तरह से नहीं किया जाता है जैसा कि शुरू में लागू किया गया था, लेकिन यदि आप विषय को अधिक गहराई से समझने की कोशिश कर रहे हैं तो यहां कुछ अच्छी बातें हैं:

  • पेजरैंक का एक अच्छा गणित-मुक्त विवरण
  • कई मददगार दृश्यों के साथ पेजरैंक कैसे (कई साल पहले से) काम करता है, का एक विस्तृत ब्रेकडाउन
  • Google के संस्थापकों द्वारा प्रकाशित मूल शैक्षणिक पत्र

आइए एक त्वरित उदाहरण के माध्यम से चलते हैं, जिससे आपको यह समझने में मदद मिलती है कि लिंक इक्विटी (या किसी पृष्ठ पर इंगित लिंक की संख्या और गुणवत्ता) साइट वास्तुकला को कैसे प्रभावित करती है और आप आंतरिक रूप से कैसे लिंक करते हैं। आइए कल्पना करें कि हमारे पास एक बर्फ हटाने वाली साइट है:

  1. हम ठंड के मौसम के मौसम में सर्दियों में निर्माण पर बर्फ के प्रभाव पर एक अद्भुत अध्ययन प्रकाशित करते हैं। यह पूरे वेब से जुड़ जाता है।
  2. अध्ययन हमारे मुख्य बर्फ हटाने वाली साइट पर प्रकाशित हुआ है। अन्य सभी पृष्ठ सरल बिक्री-उन्मुख पृष्ठ हैं जो हमारी कंपनी के बर्फ हटाने के प्रसाद के विभिन्न पहलुओं की व्याख्या करते हैं। किसी भी बाहरी साइट ने इनमें से किसी भी पेज से लिंक नहीं किया है।
  3. अध्ययन स्वयं को विभिन्न वाक्यांशों के लिए खोज परिणामों में अच्छी तरह से रैंक करने के लिए अच्छी तरह से तैनात हो सकता है। बिक्री उन्मुख पृष्ठ बहुत कम हैं। अपने अध्ययन से हमारे सबसे महत्वपूर्ण बिक्री-उन्मुख पृष्ठों से जोड़कर , हालांकि, हम उन पृष्ठों पर अपने मार्गदर्शक के विश्वास और अधिकार को पारित कर सकते हैं। वे हमारे अध्ययन के अनुसार खोज परिणामों में रैंक करने के लिए तैनात नहीं होंगे, लेकिन जब वे कोई आधिकारिक दस्तावेज (हमारी साइट पर या अन्य साइटों पर) की ओर इशारा करते हैं, तो वे बहुत बेहतर स्थिति में होंगे। एक महत्वपूर्ण अतिरिक्त नोट यहां: इस उदाहरण में हमारे पृष्ठ से सबसे अधिक जुड़ा हुआ है हमारा काल्पनिक अध्ययन। कई मामलों में, आपका सबसे जुड़ा हुआ पेज आपका होम पेज होगा (वह पेज जिसे लोग आपके बारे में बात करने के लिए लिंक करते हैं, जब आप प्रेस करते हैं, आदि) तोअपने होम पेज से अपनी साइट के सबसे महत्वपूर्ण पृष्ठों को रणनीतिक रूप से जोड़ना सुनिश्चित करना बहुत महत्वपूर्ण है ।

सूचना वास्तुकला एक बहुत ही जटिल विषय हो सकता है – विशेष रूप से बड़ी साइटों के लिए – और इस अनुभाग के अंत में सूचीबद्ध अधिक विशिष्ट उत्तरों के साथ नीचे कई महान अतिरिक्त संसाधन हैं, लेकिन उच्च स्तर पर सबसे महत्वपूर्ण चीजें ध्यान में रखना हैं :

  • आप अपने सबसे लिंक-किए गए पृष्ठों को समझना चाहते हैं (Ahrefs, राजसी एसईओ, या मूसा जैसे टूल का उपयोग करें और इन्हें निर्धारित करने के लिए “शीर्ष पृष्ठ” रिपोर्ट देखें)।
  • अपने सबसे महत्वपूर्ण खोज पृष्ठों (अपने सबसे मूल्यवान कीवर्ड को लक्षित करने के लिए जिन पृष्ठों का आप उपयोग कर रहे हैं) को अपनी जानकारी वास्तुकला में “उच्च अप” रखें : इसका मतलब है कि उन्हें अक्सर नेविगेशन तत्वों में जोड़ना और उन्हें लिंक करना जब भी आपके सबसे लिंक किए गए पृष्ठों से संभव हो (उदाहरण के लिए, सुनिश्चित करें कि आपके होम पेज और आपकी हिट हिम अध्ययन की साइट का संस्करण आपकी साइट के सबसे मूल्यवान पृष्ठों को एक खोज परिप्रेक्ष्य से जोड़ रहे हैं – आपके “मनी पेज”)।
  • सामान्य तौर पर आप अपनी साइट के लिए एक “फ्लैट सूचना वास्तुकला” रखना चाहते हैं – जिसका अर्थ है कि आप अपने होम पेज और सबसे जुड़े हुए पृष्ठों से संभव के रूप में कुछ क्लिकों को सर्च इंजन में रखना चाहते हैं। अपनी साइट की संरचना को समतल करने के तरीके की अधिक गहराई से व्याख्या के लिए यह पुराना वीडियो देखें

नीचे सूचना वास्तुकला के आसपास कई अतिरिक्त संसाधन हैं (इनमें से कई पुराने संसाधन हैं, लेकिन उनमें उल्लिखित एसईओ सिद्धांत अभी भी काफी हद तक सही हैं:

  • मोज़ेक के व्हाइटबोर्ड से एसईओ के लिए सूचना वास्तुकला शुक्रवार और साथ ही रिचर्ड बैक्सटर की मोज़ेज़ पर प्रस्तुति
  • आरकेजी की साइट वास्तुकला के लिए गाइड
  • KISS मेट्रिक्स ‘पोस्ट साइट संरचना पर
  • Google संरचना को पसंद करने के लिए WordTracker की मार्गदर्शिका, Google से प्यार करेगी
  • आसुत आपकी साइट की सूचना वास्तुकला को मैप करने के बारे में एक उपयोगी पोस्ट है

5. कंटेंट मार्केटिंग और लिंक बिल्डिंग

चूंकि Google का एल्गोरिथ्म अभी भी काफी हद तक लिंक पर आधारित है, इसलिए आपकी साइट पर कई उच्च-गुणवत्ता वाले लिंक होने से स्पष्ट रूप से खोज ट्रैफ़िक चलाने में अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण है: यदि आप ऑन-पेज और तकनीकी एसईओ पर अपने इच्छित सभी काम कर सकते हैं, तो आप ‘ टी के पास आपकी साइट के लिंक हैं, आप खोज परिणाम लिस्टिंग में नहीं दिखाएंगे।

आपकी साइट पर लिंक प्राप्त करने के कई तरीके हैं, लेकिन जैसे-जैसे Google और अन्य खोज इंजन अधिक से अधिक परिष्कृत होते जाते हैं, उनमें से कई बेहद जोखिम भरे हो गए हैं (भले ही वे अभी भी अल्पावधि में काम कर सकते हैं)। यदि आप एसईओ के लिए नए हैं और चैनल का लाभ उठाना चाह रहे हैं, तो लिंक प्राप्त करने की कोशिश करने के ये जोखिम भरे और अधिक आक्रामक साधन आपके व्यवसाय के लिए एक अच्छा फिट नहीं हैं, क्योंकि आपको नहीं पता होगा कि कैसे ठीक से नेविगेट करने और नुकसान का मूल्यांकन करने के लिए जोखिम। इसके अलावा, Google रैंकिंग में हेरफेर करने के लिए विशेष रूप से लिंक बनाने की कोशिश करने से उस घटना में आपके व्यवसाय के लिए कोई अन्य मूल्य नहीं बनता है कि खोज इंजन एल्गोरिदम शिफ्ट हो जाता है और आपकी रैंकिंग गायब हो जाती है।

विकासशील लिंक के लिए एक अधिक टिकाऊ दृष्टिकोण अधिक सामान्य, स्थायी विपणन दृष्टिकोणों पर ध्यान केंद्रित करना है जैसे कि उपयोगी सामग्री बनाना और बढ़ावा देना जिसमें वे विशिष्ट पद भी शामिल हैं जिन्हें आप अपने व्यवसाय के लिए पारंपरिक पीआर में संलग्न करना चाहते हैं।

सामग्री बनाने और बढ़ावा देने की प्रक्रिया जो आपको लिंक और सामाजिक शेयर प्राप्त करेगी, एक श्रम-गहन है। एक बार फिर आपको सामग्री विपणन के विभिन्न पहलुओं के बारे में अधिक विस्तृत चरण-दर-चरण मार्गदर्शिकाएँ मिलेंगी, और सामग्री को प्रभावी ढंग से बनाने, खोजे जाने में मदद करने और खोज परिणामों में अच्छी रैंक करने के कई अलग-अलग तरीके हैं। हालांकि, अधिकांश दृष्टिकोणों को आपको निम्नलिखित तीन मुख्य चरणों की कुछ भिन्नताओं से गुजरना होगा:

1. अपने लिंकिंग और शेयरिंग ऑडियंस को पहचानें और समझें

अपनी सामग्री के लिए कर्षण प्राप्त करने के लिए काम करने में आपको जो पहली चीज़ चाहिए, वह यह है कि आपकी सामग्री को लिंक करने और साझा करने की संभावना कौन है। आपके आला के भीतर प्रभावशाली लोगों की पहचान करने में आपकी मदद करने के लिए कई उपकरण हैं जो आपकी सामग्री को साझा कर सकते हैं, लेकिन शायद सबसे शक्तिशाली है बज़्सम्युलेटर्स:

seo के लिए buzzsumo

इसी प्रकार के उपकरण शामिल हैं  FollowerWonk , लिटिल बर्ड और Ahrefs । अपने आला को बेहतर ढंग से समझने के लिए इन उपकरणों का उपयोग करने पर अधिक विस्तृत ट्यूटोरियल नीचे शामिल किए गए हैं।

इन उपकरणों का लाभ उठाने का विचार पहले अपने अंतरिक्ष में विचारशील नेताओं और संभावित लिंकर्स को पहचानना है, और फिर समझें कि वे क्या साझा करते हैं और किससे लिंक करते हैं । पता करें कि उनकी समस्याएं क्या हैं, वे किस प्रकार की सामग्री आमतौर पर साझा करते हैं, और यह सोचना शुरू करते हैं कि आप कैसे कुछ बना सकते हैं जो वे मूल्यवान पाएंगे और अपने दर्शकों के साथ साझा करना चाहते हैं (जो इसे मूल्यवान भी पाएंगे)।

इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग इन्फ्लूएंसर बनाम इन्फोग्राफिक

जब आप इस प्रक्रिया के माध्यम से काम करते हैं, तो इन प्रभावों के लिए आप क्या कर सकते हैं, इसके बारे में सोचना शुरू करें। आप अपनी परियोजनाओं के साथ उनकी मदद कैसे कर सकते हैं? आप क्या (अनचाही) कर सकते हैं जो उन्हें अपने स्वयं के लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करेगा या आप क्या बना सकते हैं या पेश कर सकते हैं जो उन दर्शकों के लिए मूल्य होगा जो वे सामग्री बना रहे हैं और मदद करने की कोशिश कर रहे हैं? क्या आपके पास अद्वितीय डेटा या ज्ञान है जो उन्हें अपने काम को बेहतर ढंग से करने में मदद करेगा? यदि आप लगातार अपने आला में स्मार्ट सामग्री रचनाकारों के लिए उपयोग कर सकते हैं, तो आप शक्तिशाली संबंध बनाने लगेंगे, जो सामग्री बनाते समय लाभांश का भुगतान करेंगे ।

इससे पहले कि आप सामग्री का एक प्रमुख टुकड़ा बनाएँ, आपको पहले से ही इस बारे में सोचना चाहिए था कि उस सामग्री को कैसे साझा किया जाएगा: जो इसे साझा करेगा, और वे क्यों करेंगे?

2. यह निर्धारित करना कि आप क्या सामग्री बना सकते हैं और आप इसे कैसे बढ़ावा दे सकते हैं

आगे आपको यह समझने की कोशिश करनी होगी कि आपकी खुद की क्षमताएं क्या हैं, और आप किस तरह की सामग्री बना सकते हैं, जिसे दूसरों द्वारा साझा और प्रचारित किए जाने की संभावना होगी।

विभिन्न प्रकार की सामग्री परिसंपत्तियाँ साझा करने योग्य होंगी:

विभिन्न सामग्री परिसंपत्तियों को बनाने पर ध्यान दें जो वास्तविक मूल्य की होंगी, उन परिसंपत्तियों को बढ़ावा देने के लिए एक योजना है, और उन लोगों को बताने में शर्म न करें, जिन्हें आपने चित्रित किया है या जिनके दर्शकों को आपके संसाधन से लाभ होगा कि यह मौजूद है।

3. विशिष्ट खोजशब्दों के लिए अपने आस्तियों का नक्शा

अंत में, अपने खोजशब्दों के बारे में मत भूलना! इसका मतलब यह नहीं है कि हर बार जब आप एक महान संसाधन बनाते हैं, तो आपको एक खोजशब्द में रटना चाहिए जो फिट नहीं होता है: इसका मतलब है कि आप दर्द के बिंदुओं की खोज के लिए एक साधन के रूप में खोजशब्द अनुसंधान का उपयोग कर सकते हैं (यदि लोग खोज इंजन की ओर मुड़ रहे हैं चीजों की तलाश करें, वे ऐसी सामग्री चाहते हैं जो उनके प्रश्न का एक शानदार उत्तर प्रदान करती है!), और यह कि जब आप नई संपत्ति बनाते हैं, तो आप उन विभिन्न तरीकों की तलाश करना चाहते हैं, जिनमें आप अपनी संभावनाओं और ग्राहकों की भाषा का उपयोग कर सकते हैं। वास्तव में इससे जुड़ा और साझा किया जाएगा (जैसा कि आपको उन पृष्ठों के लिए किसी प्रकार के वितरण की आवश्यकता होगी जहां आप उन्हें मूल्यवान कीवर्ड के लिए रैंक करना चाहते हैं)।

अतिरिक्त संसाधन:

6. सामान्य तकनीकी एसईओ मुद्दे और सर्वोत्तम अभ्यास

जबकि मूल बातें की एसईओ निर्माण लिंक करने के लिए सबसे कुशल तरीके खोज इंजन रैंकिंग ड्राइव करने के लिए की तरह हाल के वर्षों में बदल गया है (और सामग्री विपणन तेजी से महत्वपूर्ण बन गया है) कई क्या लोगों को और अधिक “पारंपरिक एसईओ” के रूप में अभी भी पैदा यातायात में अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण है के बारे में सोच होगी खोज इंजन से। जैसा कि हमने पहले ही चर्चा की है, कीवर्ड अनुसंधान अभी भी मूल्यवान है, और तकनीकी एसईओ समस्याएं जो Google और अन्य खोज इंजनों को समझने और रैंकिंग साइटों की सामग्री को अभी भी प्रचलित रखती हैं।

बड़े, अधिक जटिल साइटों के लिए तकनीकी एसईओ वास्तव में अपना स्वयं का अनुशासन है, लेकिन कुछ सामान्य गलतियां और मुद्दे हैं जो अधिकांश साइटों का सामना करते हैं जो कि मध्यम आकार के व्यवसायों के लिए भी छोटे हैं:

पृष्ठ गति

सर्च इंजन तेजी से लोड होने वाली साइटों पर जोर दे रहे हैं – अच्छी खबर यह है कि यह न केवल सर्च इंजन के लिए फायदेमंद है, बल्कि आपके उपयोगकर्ताओं और आपकी साइट की रूपांतरण दरों के लिए भी फायदेमंद है। Google ने वास्तव में एक उपयोगी उपकरण बनाया है जिससे आपको पृष्ठ गति समस्याओं के समाधान के लिए अपनी साइट पर क्या परिवर्तन करना है, इस पर कुछ विशिष्ट सुझाव मिलेंगे।

पृष्ठ गति प्रभाव एसईओ पर

मोबाइल फ्रेंडशिप

यदि आपकी साइट मोबाइल खोजों से महत्वपूर्ण खोज इंजन ट्रैफ़िक चला रही है (या ड्राइविंग कर रही है), तो आपकी साइट “मोबाइल फ्रेंडली” कैसे आपकी रैंकिंग को मोबाइल उपकरणों पर प्रभावित करेगी, जो एक तेजी से बढ़ते हुए खंड है। कुछ निशानों में, मोबाइल ट्रैफ़िक पहले से ही डेस्कटॉप ट्रैफ़िक को बदल देता है।

Google ने हाल ही में एक एल्गोरिदम अपडेट की घोषणा की है जो विशेष रूप से इस पर केंद्रित है। आप इस बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं कि मेरी हालिया पोस्ट में चीजों को अपडेट करने के लिए कुछ विशिष्ट सिफारिशों के साथ आपकी साइट पर किस तरह का मोबाइल खोज इंजन ट्रैफ़िक आ रहा है , और यहां Google फिर से अनुशंसाएं प्राप्त करने के लिए एक बहुत ही उपयोगी मुफ़्त टूल प्रदान करता है। अपनी साइट को अधिक मोबाइल-अनुकूल बनाने के लिए ।

मोबाइल एसईओ मूल बातें

हैडर रिस्पांस

हैडर प्रतिक्रिया कोड एक महत्वपूर्ण तकनीकी एसईओ समस्या है। यदि आप विशेष रूप से तकनीकी नहीं हैं, तो यह एक जटिल विषय हो सकता है (और फिर से अधिक गहन संसाधनों को नीचे सूचीबद्ध किया गया है) लेकिन आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि काम करने वाले पृष्ठ खोज इंजन (200) के लिए सही कोड वापस कर रहे हैं, और वे पृष्ठ जो हैं नहीं मिला यह भी प्रतिनिधित्व करने के लिए एक कोड वापस कर रहे हैं कि वे अब (404) मौजूद नहीं हैं। ये कोड गलत होने से Google और अन्य खोज इंजनों को संकेत मिल सकता है कि “पेज नॉट फाउंड” पेज वास्तव में एक कामकाजी पेज है, जो इसे पतले या डुप्लिकेट किए गए पेज की तरह दिखता है, या इससे भी बदतर: आप Google को संकेत दे सकते हैं कि सभी आपकी साइट की सामग्री वास्तव में 404s है(ताकि आपका कोई भी पृष्ठ अनुक्रमित न हो और रैंक के योग्य हो)। खोज कोड क्रॉल करने पर आपके कोड वापस लौट रहे स्थिति कोड को देखने के लिए आप सर्वर हेडर चेकर का उपयोग कर सकते हैं।

एसईओ मूल बातें हेडर की जाँच करें

रीडायरेक्ट

आपकी साइट पर रीडायरेक्ट को लागू करने से खोज परिणामों पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है। जब भी आप इससे बच सकते हैं, तो आप अपनी साइट की सामग्री को एक URL से दूसरे URL पर ले जाना चाहते हैं; दूसरे शब्दों में: यदि आपकी सामग्री example.com/page पर है, और उस पृष्ठ पर खोज इंजन ट्रैफ़िक मिल रहा है, तो आप उदाहरण के लिए सामग्री को स्थानांतरित करने से बचना चाहते हैं। अत्यंत मजबूत व्यावसायिक कारणयह खोज इंजन ट्रैफ़िक में संभावित अल्पकालिक या दीर्घकालिक नुकसान से आगे निकल जाएगा। यदि आपको सामग्री को स्थानांतरित करने की आवश्यकता है, तो आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि आप स्थायी (या 301) अनुप्रेषित सामग्री को स्थायी रूप से लागू करते हैं, जो अस्थायी रूप से चलती है (या 302) पुनर्निर्देशन (जो अक्सर डेवलपर्स द्वारा उपयोग किया जाता है) Google को संकेत देते हैं कि कदम स्थायी नहीं हो सकता है, और वे सभी लिंक इक्विटी और रैंकिंग पावर को नए URL पर नहीं ले जाना चाहिए। (इसके अलावा, आपकी URL संरचना को बदलने से टूटी हुई कड़ियाँ बन सकती हैं , आपकी रेफरल ट्रैफ़िक स्ट्रीम को नुकसान पहुँचा सकती हैं और आगंतुकों के लिए आपकी साइट को नेविगेट करना मुश्किल हो सकता है।)

डुप्लिकेट सामग्री

पतली और डुप्लिकेट की गई सामग्री Google के हालिया पांडा अपडेट के साथ जोर देने का एक अन्य क्षेत्र है। सामग्री को डुप्लिकेट करके (कई पृष्ठों पर समान या निकट-समरूप सामग्री डालते हुए), आप लिंक को एक पृष्ठ पर केंद्रित करने के बजाय दो पृष्ठों के बीच लिंक इक्विटी को पतला कर रहे हैं, जो आपको समेकित साइटों के साथ प्रतिस्पर्धी वाक्यांशों के लिए रैंकिंग के कम अवसर देता है। एक एकल दस्तावेज़ में उनकी लिंक इक्विटी। बड़ी मात्रा में डुप्लिकेट सामग्री होने से आपकी साइट ऐसी दिखती है जैसे कि यह खोज इंजन की आंखों में कम-गुणवत्ता (और संभवतः जोड़ तोड़) सामग्री के साथ बंद है।

कई चीजें हैं जो नकल या पतली सामग्री का कारण बन सकती हैं। इन समस्याओं का निदान करना मुश्किल हो सकता है, लेकिन आप एक त्वरित निदान प्राप्त करने के लिए Search Appearance> HTML सुधार के तहत Webmaster Tools पर देख सकते हैं।

और डुप्लिकेट सामग्री पर Google के स्वयं के टूटने की जाँच करें । कई भुगतान किए गए एसईओ उपकरण डुप्लिकेट सामग्री की खोज के लिए एक साधन भी प्रदान करते हैं, जैसे कि मोज़ेक एनालिटिक्स और स्क्रीमिंग फ्रॉग एसईओ स्पाइडर ।

एक्सएमएल साइटमैप

XML साइटमैप Google और बिंग को आपकी साइट को समझने और उसकी सभी सामग्री खोजने में मदद कर सकते हैं। बस सुनिश्चित करें कि वे पृष्ठ शामिल नहीं हैं जो उपयोगी नहीं हैं, और यह जानते हैं कि साइट को किसी साइटमैप में खोज इंजन में सबमिट करना यह सुनिश्चित नहीं करता है कि पृष्ठ वास्तव में किसी भी चीज़ के लिए रैंक करेगा। कर रहे हैं एक नंबर का मुफ़्त उपकरण एक्सएमएल साइटमैप उत्पन्न करने के लिए।

Robots.txt, Meta NoIndex, & Meta NoFollow

अंत में, आप खोज इंजन आप उन्हें कैसे आपकी साइट पर कुछ सामग्री को संभालने के लिए चाहते करने के लिए संकेत कर सकते हैं एक में (उदाहरण के लिए आप उन्हें अपनी साइट के किसी विशिष्ट अनुभाग पर क्रॉल नहीं चाहते हैं तो) robots.txt फ़ाइल । यह फ़ाइल संभवतः आपकी साइट के लिए yourite.com/robots.txt पर पहले से मौजूद है। आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि यह फ़ाइल वर्तमान में कुछ भी अवरुद्ध नहीं कर रही है, आप चाहते हैं कि कोई खोज इंजन उनके अनुक्रमणिका में जोड़ा जाए, और आप सर्वर या पतली या डुप्लिकेट सामग्री के स्वैग जैसी चीज़ों को रखने के लिए रोबोट फ़ाइल का भी उपयोग कर सकते हैं कि आंतरिक उपयोग के लिए मूल्यवान हैं या ग्राहकों को खोज इंजन द्वारा अनुक्रमित किया जा रहा है। आप समान उद्देश्यों के लिए मेटा नोइंडेक्स और मेटा नोफ्लो टैग का उपयोग कर सकते हैं , हालांकि प्रत्येक कार्य एक दूसरे से भिन्न होते हैं।

अतिरिक्त संसाधन:

  • यह विभिन्न तकनीकी एसईओ समस्याओं का एक शानदार चेकलिस्ट है जिससे आपकी साइट पीड़ित हो सकती है
  • वर्डप्रेस साइटों को गति देने के लिए ग्रेगरी सियोटी सुझाव देता है
  • रिचर्ड बैक्सटर आपको अपनी साइट को गति देने में मदद करने के लिए कई उपकरण प्रदान करता है
  • कई जगह गहराई से डुप्लिकेट सामग्री लेख प्रस्तुत करते हैं, जिनमें मोज़ा , योस्ट और होबो वेब शामिल हैं
  • Google आपके XML साइटमैप बनाने के लिए कुछ सुझाव देता है , जैसा कि Lunametrics करता है

तकनीकी एसईओ अपने दम पर करना मुश्किल हो सकता है, इसलिए यदि आप सोच रहे हैं कि पेशेवर मदद एक सार्थक निवेश है, तो इस पोस्ट को देखें कि कैसे अपने छोटे व्यवसाय के लिए सही एसईओ सेवाओं का पता लगाएं

7. एसईओ परिणामों को कैसे ट्रैक और मापें

तो एक बार जब आप अपनी भयानक एसईओ सामग्री लिखना शुरू कर देते हैं और इन सभी चरणों को गति में डालते हैं, तो आप वास्तव में कैसे ट्रैक करते हैं कि क्या और कितना अच्छा काम कर रहा है?

इसके चेहरे पर इस सवाल का काफी सीधा-सीधा जवाब है, जिसमें कुछ प्रमुख मैट्रिक्स पर ध्यान केंद्रित किया गया है, लेकिन प्रत्येक मीट्रिक के साथ आपकी साइट के एसईओ प्रदर्शन को मापने के लिए कुछ महत्वपूर्ण कारक हैं।

कीवर्ड रैंकिंग

यह देखते हुए कि आपकी साइट कीवर्ड की सूची के लिए निश्चित रूप से अंतिम स्थान नहीं है – आप रैंकिंग में अपने कर्मचारियों को भुगतान नहीं कर सकते, खोज परिणामों में वैयक्तिकरण जैसी चीजों ने उन्हें विभिन्न स्थानों में परिवर्तनशील बना दिया है, और इसलिए उन्हें ट्रैक करना मुश्किल है, और निश्चित रूप से वे सभी बताते हैं कि आप खोज परिणामों में कहां दिखाई देते हैं। कुछ तो यहां तक ​​चले जाएंगे कि उन्हें मृत घोषित कर दिया जाए । लेकिन एक मोटा विचार प्राप्त करना जहां आपकी साइट मुख्य शर्तों के लिए रैंक करती है, आपकी साइट के स्वास्थ्य का एक उपयोगी अग्रणी संकेतक हो सकती है। इसका मतलब यह नहीं है कि आपको किसी भी एक पद के लिए रैंकिंग से अत्यधिक ग्रस्त होना चाहिए । याद रखें: आपका अंतिम लक्ष्य अधिक प्रासंगिक ट्रैफ़िक चलाना है जो अधिक व्यवसाय चलाता है- यदि आप ब्लू विजेट बेचते हैं, तो क्या यह अधिक महत्वपूर्ण है कि आप “ब्लू विजेट” के लिए रैंक करें या आप एक एसईओ रणनीति की रूपरेखा तैयार करें और उस पर अमल करें जो आपको अधिक लागत प्रभावी तरीके से अधिक नीले विजेट बेचने में मदद करता है? सामान्य स्वास्थ्य जांच के रूप में रैंकिंग का उपयोग करें, कोर्स-चार्टिंग KPI नहीं।

कई उपकरण आपकी रैंकिंग जाँचने में आपकी सहायता कर सकते हैं। अधिकांश काफी समान कार्यक्षमता प्रदान करते हैं लेकिन स्थानीय या मोबाइल रैंकिंग जैसी विशेषताएं कभी-कभी कुछ उपकरणों में अद्वितीय होती हैं। यदि आप एक छोटा सा व्यवसाय कर रहे हैं या बस SEO से शुरू कर रहे हैं, तो मैं आपको मुफ्त और आसान उपयोग करने वाले टूल को चुनने की सलाह दूंगा और केवल उन प्रमुख शब्दों पर नज़र रखूंगा जिन्हें आप ट्रैक करना चाहते हैं ताकि आप प्रगति की मदद कर सकें।

कार्बनिक आवागमन

ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक आपके एसईओ प्रयासों के स्वास्थ्य का एक बेहतर अग्रणी संकेतक है । अपनी साइट पर कार्बनिक ट्रैफ़िक को देखकर, आप अपनी साइट पर आने वाले आगंतुकों की वास्तविक मात्रा के लिए एक गेज प्राप्त कर सकते हैं, और वे कहाँ जा रहे हैं।

आप अपने कार्बनिक ट्रैफ़िक को अधिकांश एनालिटिक्स टूल के साथ आसानी से माप सकते हैं – चूंकि यह मुफ़्त है और सबसे अधिक उपयोग किया जाता है, हम Google Analytics में यह जानकारी कैसे प्राप्त करेंगे, इस बारे में देखेंगे ।

एक त्वरित जाँच के लिए, आप बस अपनी साइट के मुख्य रिपोर्टिंग पेज को देख सकते हैं और “ऑल सेशंस” पर क्लिक करके ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक के लिए फ़िल्टर कर सकते हैं (सर्च इंजन से ट्रैफ़िक जो पेड सर्च ट्रैफ़िक को बाहर करता है):

आप कस्टम रिपोर्ट बनाकर ट्रैफ़िक और लक्ष्यों को देखने वाले विशिष्ट पृष्ठों को देखने के लिए भी ड्रिल कर सकते हैं और उपयोगकर्ताओं और लक्ष्य पूर्तियों को अपने मैट्रिक्स के रूप में और अपने आयामों के रूप में लैंडिंग पृष्ठों को देख सकते हैं:

नोट: इस रिपोर्ट को देखने के बाद सुनिश्चित करें कि आप फिर से कार्बनिक ट्रैफ़िक सेगमेंट का चयन कर रहे हैं, या आप खोज इंजन द्वारा संचालित अवैतनिक ट्रैफ़िक के बजाय पृष्ठ द्वारा अपने सभी ट्रैफ़िक को देख रहे हैं।

यह उन साइटों के लिए शक्तिशाली हो सकता है जो अभी SEO से शुरू हो रही हैं, क्योंकि अक्सर आपकी साइट के अधिकांश ट्रैफ़िक को “ब्रांडेड क्वेरीज़” के रूप में जाना जाता है, या आपकी कंपनी के ब्रांड नाम वाले खोज (उदाहरण के लिए WordStream के लिए एक ब्रांडेड खोज) हो सकते हैं। WordStream PPC “एक गैर-ब्रांडेड खोज शब्द बनाम, जो” भुगतान-प्रति-क्लिक सॉफ़्टवेयर “हो सकता है)। आप स्पष्ट रूप से अपने ब्रांड की खोज करने वाले लोगों को चाहते हैं, और निश्चित रूप से आप चाहते हैं कि वे आपको तब मिलें जब वे ऐसा करेंगे, लेकिन जब तक आपकी साइट Google द्वारा दंडित नहीं की जाती है, आप निश्चित रूप से अपने ब्रांड के लिए रैंक करेंगे और क्या ब्रांडेड ट्रैफ़िक आपके पास आएगा साइट का मुख पृष्ठ। आपके चल रहे एसईओ प्रयासों में से अधिकांश के आसपास केंद्रित होना चाहिए साइट पर वृद्धिशील ट्रैफ़िक चला रहा है (जो लोग अन्यथा आपके साथ नहीं मिले और लगे हुए हैं)।

जैसा कि मैंने गाइड के कीवर्ड सेक्शन में उल्लेख किया है, दुर्भाग्य से Google ने उन वास्तविक कीवर्ड के आसपास डेटा प्राप्त करना मुश्किल बना दिया है जिन्हें लोग खोज रहे हैं, लेकिन पृष्ठ-स्तरीय ट्रैफ़िक (आपकी साइट के होम पेज के बाहर) को देखकर आप चमकना शुरू कर सकते हैं आपके समग्र एसईओ प्रगति में अंतर्दृष्टि। रैंक डेटा को देखने और इस गाइड के कीवर्ड सेक्शन में बताए गए टैक्टिक्स का उपयोग करने से आपको ट्रैफ़िक चलाने वाले वास्तविक शब्दों में अधिक जानकारी प्राप्त करने में मदद मिलेगी (और क्या आपका एसईओ विकास ऑफ-लाइन मार्केटिंग के बजाय अनुकूलन प्रयासों से संचालित हो रहा है या नहीं ) का है।

जैविक बिक्री और बिक्री

स्पष्ट रूप से आपके खोज इंजन अनुकूलन परिणामों को मापने का प्राथमिक तरीका वास्तविक लीड, बिक्री, राजस्व और लाभ होना चाहिए। किसी भी व्यावसायिक गतिविधि के साथ जैसे आपको जवाब देने की आवश्यकता है: गतिविधि आपके निचले रेखा को स्थानांतरित करने में कैसे मदद करती है?

यहां सबसे सरल मार्ग Google Analytics जैसे टूल में लक्ष्य या ई-कॉमर्स ट्रैकिंग सेट करना है। आप लैंडिंग पृष्ठ द्वारा कार्बनिक ट्रैफ़िक और लक्ष्यों (या अलग-अलग ई-कॉमर्स मीट्रिक) को देखने के लिए उपरोक्त रिपोर्ट का उपयोग कर सकते हैं, जिसका अर्थ है कि आप विशेष रूप से उन लोगों में से देख रहे हैं जो एक कार्बनिक खोज (बनाम) से आपकी साइट पर उतर रहे हैं जो लोग आपकी साइट पर पीपीसी या किसी अन्य चैनल से खिड़की के भीतर आ सकते हैं, जिन्हें आपकी एनालिटिक्स ट्रैकिंग ट्रैक कर सकती है, फिर आपके लिए खोजा गया, फिर परिवर्तित किया गया)।

यह बहुत सीधा लगता है, और आमतौर पर अधिकांश व्यवसायों के लिए आपके एसईओ प्रयासों की सफलता को मापने के लिए एक अच्छा प्रारंभिक तरीका है, लेकिन फिर से इस डेटा के साथ ध्यान में रखने के लिए कुछ चेतावनी और बातें हैं:

  • वेब आधारित विश्लेषिकी हमेशा अपूर्ण होती है । यदि आप ऑनलाइन मार्केटिंग में बिलबोर्ड या अखबार के विज्ञापनों से संक्रमण कर रहे हैं, तो आप संभवतः उपलब्ध डेटा की मात्रा और सटीकता से प्रभावित होंगे, लेकिन अक्सर विभिन्न प्रकार के ट्रैकिंग मुद्दे हो सकते हैं जो आपके द्वारा देखे जा रहे डेटा को बना सकते हैं। कहीं से भी बेतहाशा बंद करने के लिए – हमेशा डेटा के बारे में संदेह की एक डिग्री होती है जो जोड़ने के लिए प्रतीत नहीं होती है, और यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपकी एनालिटिक्स जानकारी आपके वास्तविक राजस्व के लिए समन्वयित है और खर्च करने के लिए आपके पास कुछ चेक हो सकते हैं डेटा।
  • आपका सिस्टम ट्रैकिंग में अंतराल पैदा कर सकता है । यदि आपके पास एक बैक-एंड सिस्टम है जिसे आप किसी कारण से एनालिटिक्स से नहीं जोड़ सकते हैं, तो आपके पास लक्ष्यों और वास्तविक बिक्री के रूप में ट्रैक कर सकते हैं।
  • एट्रिब्यूशन और लाइफ-टाइम वैल्यू मेट्रिक्स मुश्किल हो सकता है। यह एसईओ के लिए कुछ विशिष्ट की तुलना में एक व्यावसायिक और वेब मेट्रिक्स समस्या से अधिक है, लेकिन यह पता लगाना कि आप विभिन्न चैनलों की बिक्री कैसे करते हैं और आपकी साइट के ट्रैफ़िक के लिए जीवन-समय मूल्य में फैक्टरिंग मुश्किल हो सकती है। सुनिश्चित करें कि आप एक ही प्रकार के कठिन प्रश्नों को लागू कर रहे हैं और एसईओ को मापने का प्रयास उसी तरह कर रहे हैं जैसे आप किसी अन्य मार्केटिंग प्रयास के साथ करते हैं।
  • आप अविनाश कौशिक के इन-गाइड गाइड में मल्टी-चैनल अटेंशन के बारे में अधिक जान सकते हैं
  • KISS मेट्रिक्स प्रदान करता है पलटन विश्लेषण और बहु स्पर्श रोपण का एक अच्छा सिंहावलोकन
  • Omniture एक लोकप्रिय भुगतान किया गया वेब विश्लेषिकी प्लेटफ़ॉर्म है, जिसमें सीखने की पर्याप्त अवस्था हो सकती है – ये दो संसाधन उपयोगी ब्लॉग रिपोर्ट बनाने के लिए कुछ अच्छे सुझाव प्रदान करते हैं

अतिरिक्त संसाधन

  • आप अविनाश कौशिक के इन-गाइड गाइड में मल्टी-चैनल अटेंशन के बारे में अधिक जान सकते हैं
  • KISS मीट्रिक यानी प्रदान करता है पलटन विश्लेषण और बहु स्पर्श रोपण के अच्छा सिंहावलोकन
  • Omniture एक लोकप्रिय भुगतान किया गया वेब विश्लेषिकी प्लेटफ़ॉर्म है, जिसमें सीखने की पर्याप्त अवस्था हो सकती है – ये दो संसाधन उपयोगी ब्लॉग रिपोर्ट बनाने के लिए कुछ अच्छे सुझाव प्रदान करते हैं

8. अतिरिक्त एसईओ विचार

कई व्यवसायों के लिए, एसईओ के तकनीकी पहलुओं को प्राप्त करना, उन खोजशब्दों को समझना, जिन्हें आप लक्षित करना चाहते हैं, और अपनी साइट के पृष्ठों को लिंक और साझा करने के लिए एक रणनीति रखना, वास्तव में आपको एसईओ के बारे में जानने की आवश्यकता है। हालाँकि, कुछ विशिष्ट मामले और व्यवसाय प्रकार हैं जिन्हें विशिष्ट प्रकार की खोज से संबंधित होना चाहिए । कुछ प्रकार के खोज वातावरणों में अद्वितीय दृष्टिकोणों की आवश्यकता होती है:

  • अंतर्राष्ट्रीय एसईओ – विभिन्न देशों और विभिन्न भाषाओं में रैंकिंग साइटों के लिए अलग-अलग दृष्टिकोणों के लिए कई लाभ और व्यापार-ऑफ हैं। यदि आप विभिन्न अंतरराष्ट्रीय बाजारों में ग्राहकों तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं, तो अलेडा सोलिस के पास अंतर्राष्ट्रीय एसईओ सर्वोत्तम प्रथाओं के लिए एक उत्कृष्ट मार्गदर्शिका है , और Google अपने स्वयं के गाइड में कुछ सिफारिशें और सर्वोत्तम अभ्यास भी प्रदान करता है ।
  • स्थानीय एसईओ – छोटे व्यवसायों और फ्रेंचाइजी के लिए , {आपके स्थान} + {आपकी सेवा} के विभिन्न रूपों के लिए स्थानीय रैंकिंग प्राप्त करना (जैसे “बोस्टन पिज्जा की दुकानें”) वास्तव में सबसे मूल्यवान कार्बनिक खोज यातायात उपलब्ध है। लिंक और शेयर प्राप्त करते समय, खोजशब्द अनुसंधान करना, और यह सुनिश्चित करना कि आपकी साइट में तकनीकी समस्याएं नहीं हैं, स्थानीयकृत रैंकिंग के साथ मदद करता है, रैंकिंग कारकों का एक अलग सेट है स्थानीय व्यवसायों को पता होना चाहिए। मैथ्यू Barby विषय पर एक उत्कृष्ट गाइड है ।
  • ऐप स्टोर खोज इंजन – यदि आपके पास कोई ऐप है – या तो आपकी कंपनी के लिए मुख्य उत्पाद की पेशकश के रूप में, या मोबाइल उपयोगकर्ताओं को अपने व्यवसाय के साथ बातचीत करने में सक्षम बनाने के लिए एक साधन के रूप में – आपका ऐप विभिन्न ऐप स्टोरों पर खोजों में दिखा सकता है। अत्यंत मूल्यवान हो। जस्टिन ब्रिग्स और स्टेफ़नी बीडेल ने इस विषय पर कई उत्कृष्ट पोस्ट लिखे हैं।

तो अब क्या?

इसलिए यदि आपने इसे दूर कर लिया है, तो आपको बहुत सारी जानकारी पता होनी चाहिए कि खोज इंजन वेबसाइटों को कैसे रैंक करते हैं और Google जैसे खोज इंजन से अधिक खोज ट्रैफ़िक उत्पन्न करने के लिए आप अपनी खुद की साइट और व्यवसाय कैसे कर सकते हैं। आपको आगे क्या करना चाहिए?

प्राथमिकता दें । कोई भी साइट सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के हर एक पहलू के खिलाफ सही काम नहीं करती है। उन चीजों के बारे में सोचें जो आप अच्छा करते हैं, जिनके लिए बजट और संसाधन हैं, और जो आपके व्यवसाय को आपके निवेश के लिए सबसे अच्छा रिटर्न देंगे – यह हर व्यवसाय और साइट के लिए कम से कम थोड़ा अलग होगा।

यदि आप सामग्री बनाने और प्रचार करने में महान हैं, तो निर्धारित करें कि किन कीवर्ड्स को आगे जाना है और अपने प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करना है।

यदि आपके पास एक बड़ी और जटिल साइट है, तो तकनीकी एसईओ सही होने पर ध्यान केंद्रित करें (या जो कोई व्यक्ति किराए पर ले सकता है)।

यदि आप एक छोटा व्यवसाय कर रहे हैं जो बहुत विशिष्ट भू-केंद्रित शर्तों के लिए रैंकिंग से लाभान्वित होगा, लेकिन बहुत अधिक नहीं, तो अपने स्थानीय एसईओ प्रयासों को किनारे कर दें (और तब शायद आप अन्य विपणन प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करें, जब आप अपने प्रयासों से कम रिटर्न देखना शुरू करते हैं ) का है।

हमेशा याद रखें कि किसी भी खोज इंजन अनुकूलन प्रयासों के साथ अंतिम उद्देश्य आपके व्यवसाय या आपकी साइट की सामग्री के लिए अधिक एक्सपोज़र और ट्रैफ़िक प्राप्त करना है। उन तरीकों की तलाश करें जो खोज इंजन ट्रैफ़िक आपके व्यवसाय और साइट की सहायता कर सकते हैं: हर बार नवीनतम एसईओ buzzwords के बाद पीछा न करें या हर बार Google एक अनुशंसा करता है जो आपके समग्र व्यवसाय को नुकसान पहुंचाते हुए आपकी खोज रैंकिंग में सुधार कर सकता है।

संबद्ध विपणन: निष्क्रिय आय में उत्पाद अनुशंसाओं को कैसे चालू करें

एक संपन्न व्यवसाय चलाने वाले स्मार्ट उद्यमी जानते हैं कि उस व्यवसाय को विकसित करने के लिए वे हमेशा और अधिक कर सकते हैं। चीजों को अगले स्तर पर ले जाने का एक तरीका है आय की एक वैकल्पिक धारा का पता लगाना। इसका मतलब यह नहीं है कि दूसरा व्यवसाय शुरू करें, लेकिन अपने ग्राहकों और अनुयायियों को अधिक मूल्य प्रदान करके आपके व्यवसाय के पूरक और बढ़ने के तरीके खोजें।

यदि आप सहबद्ध विपणन में भाग नहीं ले रहे हैं, तो इस आकर्षक राजस्व धारा का लाभ उठाने पर विचार करें।

सहबद्ध विपणन क्या है?

संबद्ध विपणन एक ऑनलाइन बिक्री रणनीति है जो उत्पाद स्वामी को अन्य दर्शकों को लक्षित करने की अनुमति देकर बिक्री बढ़ाने की अनुमति देता है- “सहयोगी” – दूसरों को उत्पाद की सिफारिश करके कमीशन कमाते हैं। इसी समय, यह संबद्धों के लिए उत्पाद की बिक्री पर पैसा कमाने के लिए अपने स्वयं के उत्पादों को बनाए बिना संभव बनाता है।

सीधे शब्दों में कहें तो एफिलिएट मार्केटिंग में किसी ब्लॉग या सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म या वेबसाइट पर शेयर करके किसी उत्पाद या सेवा का जिक्र किया जाता है। प्रत्येक बार जब कोई व्यक्ति अपनी सिफारिश के साथ जुड़े अद्वितीय लिंक के माध्यम से खरीदारी करता है, तो संबद्ध एक कमीशन कमाता है। अच्छी तरह से किया गया है, यह प्रदर्शन-आधारित अवसर आपको एक स्वस्थ आय प्राप्त करके आपके व्यवसाय का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन सकता है।

सहबद्ध विपणन कैसे काम करता है?

सहबद्ध विपणन कार्यक्रम में भाग लेने के लिए, आपको ये पाँच सरल कदम उठाने होंगे:

  1. किसी संबद्ध प्रोग्राम को ढूंढें और उसमें शामिल हों
  2. बढ़ावा देने के लिए कौन सा प्रस्ताव चुनें
  3. प्रत्येक ऑफ़र के लिए एक अद्वितीय संबद्ध लिंक प्राप्त करें
  4. उन लिंक को अपने ब्लॉग , सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म या वेबसाइट पर साझा करें
  5. कमीशन खरीदें, जब भी कोई व्यक्ति खरीदारी करने के लिए आपके लिंक का उपयोग करता है

कंपनी और ऑफ़र के आधार पर कमीशन दर नाटकीय रूप से बदलती हैं। कम अंत में, आप लगभग 5% बिक्री अर्जित करेंगे लेकिन, कुछ व्यवस्थाओं के साथ, आप 50% तक कमा सकते हैं, आमतौर पर जब एक वर्ग या घटना को बढ़ावा देते हैं। सहबद्ध विपणन कार्यक्रम भी हैं जो प्रतिशत के बजाय प्रति बिक्री एक फ्लैट दर प्रदान करते हैं।

सहबद्ध विपणन मॉडल के लाभ

एफिलिएट मार्केटिंग सहबद्धों (यानी, आप) को कई लाभ प्रदान करता है, जिनमें से एक इसकी सहजता है। समीकरण के आपके पक्ष में एक उत्पाद को शिक्षित करने और ग्राहकों को बेचने और बेचने का “विपणन” पक्ष शामिल है। आपको ऑफ़र को विकसित करने, समर्थन करने या पूरा करने जैसे कठिन कार्यों के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है।

संबद्ध विपणन कम जोखिम है। चूंकि संबद्ध कार्यक्रमों में शामिल होने की कोई लागत नहीं है, आप किसी भी संबद्ध निवेश के बिना किसी स्थापित सहबद्ध उत्पाद या सेवा के साथ पैसा बनाना शुरू कर सकते हैं। संबद्ध विपणन भी कमीशन के माध्यम से अपेक्षाकृत निष्क्रिय आय उत्पन्न कर सकता है – आदर्श पैसा बनाने वाला परिदृश्य। हालाँकि शुरू में आपको ट्रैफ़िक स्रोत बनाने में समय लगाना होगा, फिर भी आपके सहबद्ध लिंक स्थिर पेचेक वितरित कर सकते हैं।

अंत में, सफल सहबद्ध विपणन अतिरिक्त मदद के बिना अपनी कमाई को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाने की क्षमता प्रदान करता है। आप अपने वर्तमान दर्शकों के लिए नए उत्पाद पेश कर सकते हैं और अतिरिक्त उत्पादों के लिए अभियान बना सकते हैं, जबकि आपका मौजूदा काम पृष्ठभूमि में राजस्व उत्पन्न करना जारी रखता है।

इससे पहले कि आप बहुत उत्साहित हों, यह जान लें कि ट्रस्ट पर बढ़िया सहबद्ध विपणन बनाया गया है। प्रतीत होता है कि प्रचार करने के लिए उत्पादों या सेवाओं की एक अंतहीन संख्या है, यह केवल उन लोगों को उजागर करने के लिए सबसे अच्छा है जिन्हें आप व्यक्तिगत रूप से उपयोग करते हैं या सिफारिश करेंगे। यहां तक ​​कि जब कोई उत्पाद आपकी रुचि या किसी मौजूदा शौक के भीतर फिट बैठता है , तब भी उस उत्पाद के लिए एक महान विपणनकर्ता बन जाता है।

सहबद्ध कार्यक्रम कैसे खोजें

यदि आप सोच रहे हैं कि सहबद्ध विपणन में अपने पैरों को कैसे गीला किया जाए, तो आपको कुछ विकल्प मिलेंगे। प्रत्येक कंपनी संबद्ध प्रोग्राम प्रदान नहीं करती है – कुछ व्यवसाय अपने स्वयं के सहबद्ध कार्यक्रमों का प्रबंधन करते हैं जबकि अन्य संबद्ध नेटवर्क का उपयोग करते हैं।

सहबद्ध कार्यक्रमों को खोजने का एक आसान तरीका एक सहबद्ध बाज़ार या मंच पर जाना है। शीर्ष प्रदर्शन सहबद्ध प्लेटफार्मों को खोजने के लिए अपने आला को ब्राउज़ करें। यहाँ कुछ सबसे लोकप्रिय हैं:

  • संबद्ध नेटवर्क
  • अवंतलिंक
  • संवादी द्वारा सी.जे.
  • ClickBank
  • FlexOffers
  • LinkConnector
  • राजस्व
  • Shareasale

एक अन्य विकल्प उन उत्पादों और सेवाओं की वेबसाइटों पर जाना है, जिनका आप उपयोग करते हैं और यह देखना पसंद करते हैं कि क्या उनका कोई संबद्ध प्रोग्राम है। बड़ी कंपनियों के पास अक्सर ऐसे कार्यक्रम होते हैं जो वे अपनी साइट पर प्रचारित करते हैं, जैसे कि  Amazon Associates या  Shopify Affiliate Program ।

आप अधिक प्रत्यक्ष दृष्टिकोण भी अपना सकते हैं। एक महान उत्पाद के मालिक तक पहुंचें जो आप भरते हैं और देखें कि क्या वे एक संबद्ध विपणन कार्यक्रम प्रदान करते हैं। यदि वे नहीं करते हैं, तो वे आपके साथ एक व्यवस्था स्थापित करने में खुश हो सकते हैं, जैसे कि आप अपने अनुयायियों के साथ साझा करने के लिए एक विशेष कूपन कोड प्रदान करते हैं। सबसे अच्छा सौदा अक्सर पाया जाता है जब आप पूछताछ के लिए पहली बार होते हैं और एक प्रासंगिक वितरण चैनल होता है, जैसे कि यदि आप एक स्वास्थ्य और कल्याण ब्लॉगर हैं तो एक नए फिटनेस उत्पाद के विक्रेता से संपर्क करें।

संबद्ध विपणन कार्यक्रमों में आपके द्वारा पालन की जाने वाली सेवा की शर्तें होंगी, इसलिए फाइन प्रिंट पढ़ें। उदाहरण के लिए, आपके लिंक में आमतौर पर एक निर्दिष्ट समय सीमा के साथ एक कुकी होगी, और कुछ प्रोग्राम आपको उत्पाद या कंपनी के नाम का उपयोग करके भुगतान-प्रति-क्लिक विज्ञापन खरीदने की अनुमति नहीं देते हैं।

अपना पहला सहबद्ध कार्यक्रम चुनना

जैसा कि आप उत्पादों पर विचार-विमर्श करते हैं या संबद्ध प्लेटफार्मों के माध्यम से ब्राउज़ करते हैं, तो ध्यान रखने के लिए सबसे महत्वपूर्ण मानदंड यह है कि उत्पाद को आपके दर्शकों, या उन दर्शकों के साथ गठबंधन किया जाना चाहिए, जिन्हें आप बनाना चाहते हैं। अपने आप से पूछें, क्या यह कुछ ऐसा है जो आपके लक्षित दर्शकों को मूल्यवान लगेगा? क्या यह आपकी विशेषज्ञता के क्षेत्र के साथ फिट बैठता है?

एक खाद्य ब्लॉगर शायद सौंदर्य उत्पादों को बढ़ावा नहीं देगा, उदाहरण के लिए। अन्य उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला कुकवेयर, भोजन किट, पेटू सामग्री, या एप्रन जैसे अधिक समझ में आएगी।

यह भी सुनिश्चित करें कि जिस उत्पाद या सेवा का आप प्रचार कर रहे हैं, वह उस मंच के लिए एक उपयुक्त है जिसे आप इसे बढ़ावा दे रहे हैं। उदाहरण के लिए, घर की सजावट और कपड़े अच्छी तरह से Instagram जैसे छवि-भारी प्लेटफार्मों के अनुकूल हैं ।

हालाँकि, यदि आप सॉफ़्टवेयर की तरह अधिक गहराई से खरीदारी को बढ़ावा दे रहे हैं, तो आपकी समीक्षा ब्लॉग या YouTube जैसे लंबी अवधि के प्लेटफ़ॉर्म पर बेहतर रूप से परिवर्तित हो सकती है ।

अपने सहबद्ध प्रस्ताव को बढ़ावा देने के लिए एक योजना बनाना

जैसा कि हमने पहले उल्लेख किया है, सहबद्ध विपणन राजस्व अंततः निष्क्रिय आय का एक रूप बन सकता है, लेकिन आपको अभी भी कुछ भारी उठान करना होगा। आपके कार्यक्रम की सफलता आपकी समीक्षा की गुणवत्ता पर निर्भर करेगी।

एक अच्छी समीक्षा बनाने के लिए, व्यक्तिगत होना सबसे अच्छा है। साझा अपने अपने ब्लॉग, सामाजिक मीडिया पोस्ट, या वीडियो में अनुभव। यदि आप व्यक्तिगत समीक्षा लिख ​​रहे हैं, तो उत्पाद के ज्ञान और अनुभव के आधार पर स्पष्ट राय दें। आप जितने खुले होंगे, उतने ही प्रामाणिक होंगे। लोग आपकी सलाह का पालन करते हुए अधिक सहज होंगे यदि उन्हें लगता है कि वे आप पर भरोसा कर सकते हैं।

आपके सहबद्ध विपणन प्रयासों में विश्वास एक महत्वपूर्ण कारक है, क्योंकि लोगों को आपकी सिफारिशों पर कार्य करने के लिए आपको पर्याप्त भरोसा करने की आवश्यकता है। सहबद्ध बिक्री करने के लिए आपके भरोसे का स्तर आपके उद्योग और आपके द्वारा सुझाए जा रहे उत्पादों पर निर्भर करता है – उदाहरण के लिए, यह $ 1,000 के पाठ्यक्रम के लिए एक प्रभावी सहबद्ध होने के लिए अधिक विश्वास लेता है, जितना कि यह $ 20 की टी-शर्ट के लिए है।

अपने अनुभवों को साझा करने से परे, आप अपने द्वारा प्रचारित संबद्ध सहयोगियों की संख्या को सीमित करके, या केवल उन उत्पादों के लिए एक सहयोगी बन सकते हैं, जिन्हें आप व्यक्तिगत रूप से उपयोग करते हैं, और विशेषज्ञता के अपने क्षेत्र से चिपके हुए हैं। उदाहरण के लिए, लोग कनाडाई वित्तीय ऐप के लिए मेरी सिफारिशों पर भरोसा करते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मैं एक सेहोरा सहयोगी के रूप में बहुत किस्मत वाला हूं।

उत्पाद विशेषज्ञ से बात करें

एक अन्य विकल्प दूसरों का साक्षात्कार कर रहा है जो उत्पाद या सेवा का उपयोग करता है, या यहां तक ​​कि उस व्यक्ति का साक्षात्कार भी करता है जो इसे बनाता या बेचता है। यह आपकी समीक्षा को और अधिक गहराई दे सकता है, पाठक के लिए एक कथा बना सकता है।

एक उत्पाद ट्यूटोरियल बनाएँ

जबकि संबद्ध विपणन के साथ आपकी सफलता आपके निम्नलिखित के समग्र आकार पर निर्भर कर सकती है, प्रस्ताव पर एक ट्यूटोरियल प्रदान करके उच्च-परिवर्तित ट्रैफ़िक को चलाने का एक और तरीका है। लोग अक्सर Google पर “कैसे” खोज करते हैं, जैसे “कॉलेज के लिए पैसे कैसे बचाएं” या “कपड़े धोने के कमरे को कैसे सजाने के लिए”। यदि आप एक ट्यूटोरियल की पेशकश करते हैं जो खोजकर्ता की समस्या को हल करता है और उत्पाद के मूल्य को स्पष्ट रूप से प्रदर्शित करता है, तो आपके रेफरल संदर्भ में अधिक समझ बनाएंगे और आप ग्राहक को उस उत्पाद को खरीदने के लिए एक मजबूत प्रोत्साहन प्रदान करेंगे जिसे आप सुझा रहे हैं।

प्रासंगिक खोज शब्द खोजें

यदि आप किसी ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से ऑफ़र का प्रचार कर रहे हैं, तो संबंधित समस्या का उत्तर खोजने के लिए खोज इंजन में कौन से कीवर्ड का उपयोग किया जा सकता है। Google Ads Keyword Planner एक अच्छा टूल है जो मदद कर सकता है। (यह उपयोग करने के लिए स्वतंत्र है, लेकिन आपको एक खाता बनाने की आवश्यकता होगी।)

अपने कोण पर विचार करें

आपके प्रस्ताव के आधार पर, निर्देशात्मक या ट्यूटोरियल सामग्री में आपको कितनी ऊर्जा का निवेश करना चाहिए, यह अक्सर एक प्राकृतिक सीसा-इन है जो किसी व्यक्ति के लिए खुद के लिए एक उत्पाद की कोशिश करता है। उदाहरण के लिए, आप किसी भौतिक उत्पाद का सबसे अधिक उपयोग करने और प्राप्त करने या सॉफ़्टवेयर जैसे डिजिटल उत्पाद के लाभों को दिखाने के लिए खुद का वीडियो रिकॉर्ड कर सकते हैं। अनबॉक्सिंग पोस्ट लोकप्रिय हैं, इसलिए यदि आप मेल में उत्पाद प्राप्त करते हैं, तो अपने अनुभव को इसे खोलने का दस्तावेज़ दें।

अपनी वितरण रणनीति निर्धारित करें

अपनी प्रचार सामग्री लिखने के बाद, इसे अपनी वेबसाइट या सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर साझा करें। यदि आपके पास एक ईमेल सूची है, तो आप एक ईमेल विपणन अभियान बना सकते हैं। और अपनी वेबसाइट पर एक संसाधन पृष्ठ के साथ एक संबद्ध विपणन केंद्र होना सुनिश्चित करें जहां आप उन सभी टूलों की त्वरित सूची साझा करते हैं जिनका आप उपयोग करते हैं और प्यार करते हैं।

बोनस देने का प्रयास करें

कभी-कभी विपणक ऑफ़र खरीदने वाले किसी भी व्यक्ति को बोनस देकर अपने सहबद्ध कार्यक्रमों को बढ़ावा देते हैं। उदाहरण के लिए, आप एक मुफ्त ईबुक दे सकते हैं जिसे आपने किसी भी अनुयायी को लिखा है जो खरीदारी करता है। इस तरह के प्रचार ग्राहकों को सौदे को मीठा करके खरीदने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। वे विशेष रूप से प्रेरक हैं यदि आपके द्वारा प्रदान किया जाने वाला बोनस कुछ ऐसा है जिसे आप सामान्य रूप से बेचते हैं, क्योंकि तब खरीदार आपकी साइट पर वास्तविक डॉलर मूल्य वर्धित मूल्य देख सकते हैं।

आप संबद्ध बोनस के कई उदाहरणों को एक्शन में देख सकते हैं, जब बिजनेस कोच मैरी फोर्लो हर साल उद्यमियों के लिए अपना लोकप्रिय बी-स्कूल खोलती हैं । उसे सहबद्ध लिंक के माध्यम से साइन-अप को प्रोत्साहित करने के लिए, लौरा बेलग्रे , फोर्लो के खुद के कॉपीराइटर, बोनस के रूप में एक-एक कॉपी राइटिंग सत्र प्रदान करते हैं।

मार्केटिंग कोच एमी पोर्टरफील्ड ने अपने लाइव इवेंट में एक निजी फेसबुक ग्रुप, क्यू एंड ए सेशन, और कई तरह के डाउनलोड के लिए एक निमंत्रण के साथ एक बोनस बंडल जोड़ा। बोनस जोड़ना एक अच्छा तरीका हो सकता है अगर कई अन्य सहयोगी एक ही उत्पाद को बढ़ावा दे रहे हों।

चीजों को कानूनी और बोर्ड से ऊपर रखें

अनुयायियों को यह बताना न भूलें कि आपकी पोस्ट में सहबद्ध लिंक हैं। एक बात के लिए, यह FTC द्वारा आवश्यक है । लेकिन आपके जुड़ाव का कारण समझाने से भी आपको अपने दर्शकों से जुड़ने में मदद मिल सकती है। उदाहरण के लिए, फ्रुगलवुड्स में वित्तीय स्वतंत्रता ब्लॉगर्स इस प्रकटीकरण की पेशकश करते हैं: “फ्रुगलवुड्स कभी-कभी संबद्ध विज्ञापन और विज्ञापन प्रकाशित करते हैं, जिसका अर्थ है कि यदि आप किसी लिंक पर क्लिक करते हैं और कुछ खरीदते हैं, तो फ्रुगलवुड आपको बिक्री का प्रतिशत प्राप्त कर सकते हैं, बिना किसी अतिरिक्त लागत के। । हम केवल उन उत्पादों के बारे में लिखते हैं, और बढ़ावा देते हैं, जिन उत्पादों पर हम विश्वास करते हैं। हम आपको उस सामान के बारे में नहीं बताने का वादा करते हैं जो गूंगा है। “

यदि आपको किसी अस्वीकरण में किस भाषा का उपयोग करने में मदद करने की आवश्यकता है, तो एक वकील से परामर्श करने के लिए समय लेने लायक है।

सहबद्ध विपणन का उपयोग करके व्यवसायों के उदाहरण

सहबद्ध विपणन में भाग लेने वाली कुछ कंपनियों को देखते हुए आपको प्रेरणा मिलेगी – साथ ही यह भी प्रमाण होगा कि यह एक वैध और आकर्षक राजस्व धारा है।

तार का कटर

वायरकटर , गियर और गैजेट को बढ़ावा देने वाली एक साइट- किचन टूल्स से लेकर ट्रैवल गियर- जो कि 2016 में द न्यूयॉर्क टाइम्स द्वारा अधिगृहित की गई थी , का कहना है कि यह केवल दिग्गज पत्रकारों, वैज्ञानिकों और वैज्ञानिकों की टीमों द्वारा “जोरदार रिपोर्टिंग, साक्षात्कार और परीक्षण के बाद सिफारिशें करता है।” शोधकर्ताओं।”

बज़फीड

BuzzFeed समीक्षाएं उपहार गाइड के रूप में शुरू हुईं और विभिन्न उत्पाद श्रेणियों की समीक्षाओं में विस्तारित हुईं। साइट को जो विशिष्ट बनाता है वह यह है कि इसमें विभिन्न प्रकार के साधारण आइटम शामिल होते हैं, जो तीन अलग-अलग मूल्य बिंदुओं पर शीर्ष स्थान देते हैं। बज़फीड की समीक्षा काफी गहन है, जो पाठक को बहुत सारे मूल्य प्रदान करती है। यहाँ हाल ही में टॉयलेट पेपर पर एक  पोस्ट और महिलाओं की सफेद टी-शर्ट पर एक और पोस्ट है ।

सहबद्ध विपणन के साथ आरंभ करने के लिए तैयार हैं?

सहबद्ध विपणन कार्यक्रमों के साथ पैसा कमाना बहुत अधिक जोखिम उठाए बिना एक नई राजस्व धारा जोड़ने का एक पुरस्कृत तरीका हो सकता है। यह सब आप खर्च करेंगे आप अपने समय है। घंटों अपफ्रंट का निवेश करके, आप पुरस्कारों को प्राप्त करना जारी रख सकते हैं।